1. You Are At:
  2. होम
  3. विदेश
  4. यूरोप
  5. सेल्फी ने खोला बड़ा राज

सेल्फी ने खोला बड़ा राज, दो हमशक्लों ने जाना वो जुड़वां बहनें हैं

जर्मनी: दुनिया में ऐसी-ऐसी घटनाएं होती है जिनका हमें अंदाजा भी नहीं होता है। हमने लोगों को कहते हुए सुना है कि हर एक व्यक्ति का हमशक्ल होता है। हालांकि हम इस बात पर आसानी

India TV News Desk [Updated:27 Nov 2015, 2:15 PM IST]
सेल्फी ने खोला बड़ा...- Khabar IndiaTV
सेल्फी ने खोला बड़ा राज

जर्मनी: दुनिया में ऐसी-ऐसी घटनाएं होती है जिनका हमें अंदाजा भी नहीं होता है। हमने लोगों को कहते हुए सुना है कि हर एक व्यक्ति का हमशक्ल होता है। हालांकि हम इस बात पर आसानी से विश्वास नहीं कर पाते हैं। लेकिन यह खबर पढ़ कर आप हैरान रह जाएगें कि वाकई दुनिया में आपके भी हमशक्ल हो सकते हैं।

हम आज आपको दो सहेलियों की कहानी बता रहे है जो एक-दूसरे से अंजान थी उन्होंने एक दूसरे को कभी नहीं देखा था। लेकिन जब वह एक-दूसरे से मिलीं तो उन्हें पता चला कि वह दोनों  हमशक्ल है। एक अंग्रेजी दैनिक के मुताबिक जर्मनी के ब्रेमेन शहर के विश्वविद्यालय में फॉरेन एक्सचेंज प्रोग्राम में पहुंचीं ब्रिटेन की कॉर्डेलिया और आयरलैंड की कियारा एक दूसरे से अंजान थीं। लेकिन लोगों को लगता था कि वे बहनें हैं।

लोग अक्सर दोनों से पूछा करते थे कि क्या वह अपनी किसी बहन के साथ आईं है जबकि दोनो ही लड़कियां अलग-अलग जगह से आईं थी। उनकी इस समस्या का समाधान एक सेल्फी ने निकाल दिया। दरअसल बात यह हुई कि जब भी कियारा किसी भी पार्टी में जाती थी तो लोग अक्सर यही पूछा करते थे कि क्या उनकी कोई  बहन भी है। कियारा को बाद में इस बात का एहसास हुआ कि लोग कॉर्डलिया की बात कर रहे है। दोनों ही लड़कियों ने सेल्फी लेने का निर्णय लिया ताकि वह देख सके कि उनकी शक्ल मिलती है या नहीं। दोनों ने सेल्फी लेकर उसे फेसबुक पेज ट्वीन स्ट्रेंजर्स पर डाल दिया। इस पेज को तीन दोस्तों द्वारा शुरू किया गया था और तो और इस पेज की संस्थापक को इसी के जरिए अपनी हमशक्ल भी मिली थी।   

 

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का विदेश सेक्‍शन
Web Title: सेल्फी ने खोला बड़ा राज, दो हमशक्लों ने जाना वो जुड़वां बहनें हैं
Promoted Content
Write a comment
independence-day-2018