1. You Are At:
  2. होम
  3. टेक
  4. न्यूज़
  5. अब एक घंटे बाद भी डिलीट कर पाएंगे WhatsApp पर गलती से भेजे गए मैसेज!

अब एक घंटे बाद भी डिलीट कर पाएंगे WhatsApp पर गलती से भेजे गए मैसेज!

इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp पर हम कभी-कभी गलत ग्रुप में या गलत शख्स को मैसेज भेज देते हैं...

Edited by: Khabarindiatv.com [Updated:05 Mar 2018, 1:08 PM IST]
WhatsApp is extending deadline for deleting messages | Pixabay- Khabar IndiaTV
WhatsApp is extending deadline for deleting messages | Pixabay

नई दिल्ली: इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp पर हम कभी-कभी गलत ग्रुप में या गलत शख्स को मैसेज भेज देते हैं। इस स्थिति से निपटने के लिए इस मैसेंजर ऐप में 'डिलीट फॉर एवरीवन' का फीचर दिया गया है। हालांकि अभी यूजर्स सिर्फ 7 मिनट के अंदर भेजे गए मैसेज को डिलीट कर सकते हैं, लेकिन खबर है कि WhatsApp अब इस समय सीमा को बढ़ा सकता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब WhatsApp अपने इस फीचर को अपडेट करने पर विचार कर रहा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ समय से की जा रही मांग को देखते हुए कंपनी अपने फीचर 'डिलीट फॉर एवरीवन' को अपडेट कर सकती है। इस फीचर के अपडेट होने के बाद वॉट्सएप यूजर्स 4,096 सेकंड यानी करीब 68 मिनट 16 सेकंड बाद भी भेजे गए मेसेज को डिलीट कर सकते हैं। WhatsApp ने पिछले साल ही यूजर्स को यह नई सुविधा दी धी कि वह अपने भेजे गए मैसेज को डिलीट कर सकते हैं। हालांकि ऐसी भी खबरें आई थीं कि लोगों ने इस फीचर का भी तोड़ निकाल लिया था और डिलीट करने के बाद भी मैसेज पाने वाला व्यक्ति उसे अपने फोन में बनाए रख सकता है।

हालांकि फिलहाल नया अपडेट अभी वॉट्सऐप के 2.18.69 बीटा वर्जन पर उपलब्ध है और आम यूजर्स को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए अभी कुछ दिन इंतजार करना होगा। गौरतलब है कि पूरी दुनिया में WhatsApp के 1.5 अरब मासिक यूजर्स हैं, जिसमें 20 करोड़ से ज्यादा यूजर्स भारत के हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, WhatsApp पर यूजर्स एक दिन में करीब 60 अरब मैसेज एक-दूसरे को भेजते हैं।

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Tech News News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का टेक सेक्‍शन
Web Title: WhatsApp is extending deadline for deleting messages
Promoted Content
Write a comment
international-yoga-day-2018
monsoon-climate-change
Sanju