1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. मेरा पैसा
  5. ये है घर बैठे म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करने का सबसे सरल तरीका, नहीं होगी कोई परेशानी

ये है घर बैठे म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करने का सबसे सरल तरीका, नहीं होगी कोई परेशानी

कई म्‍यूचुअल फंड कंपनियां ऑनलाइन निवेश के लिए डायरेक्‍ट प्‍लान प्‍लांस पेश कर रही हैं, वहीं कुछ बड़े फंड मैनेजर्स भी आपको एक ही स्‍थान पर सभी निवेश विकल्‍प ऑनलाइन मुहैया करवा रहे हैं। इंडिया टीवी पैसा की टीम आज आपको बताने जा रही है इन्‍हीं तरीकों के

Written by: Manish Mishra [Updated:11 Dec 2017, 2:33 PM IST]
Direct Invextment in Mutual Funds- IndiaTV Paisa
Direct Invextment in Mutual Funds

नई दिल्‍ली। अपने बेहतर भविष्‍य के लिए हम सभी को बैंक एफडी, Mutual Funds, गोल्‍ड, शेयर और बॉण्‍ड आदि में निवेश करने की सलाह दी जाती है। लेकिन आज की व्‍यस्‍त जीवनशैली में अपने भविष्‍य के लिए भी कुछ समय निकालकर बैंक या किसी वित्‍तीय संस्‍था के ऑफिस जाना बेहद मुश्किल काम है, ऊपर से यदि एजेंट की मदद ली जाए तो उसका कमीशन हमारे रिटर्न में सेंध लगा देता है। लेकिन इंटरनेट के जमाने में आपको न तो समय खराब करने की जरूरत है और न हीं एजेंट को भारी-भरकम कमीशन देने की, आप ऑनलाइन शॉपिंग की तरह Mutual Funds , बॉण्‍ड और फिक्‍स डिपॉजिट में भी निवेश कर सकते हैं। कई म्‍यूचुअल फंड कंपनियां ऑनलाइन निवेश के लिए डायरेक्‍ट प्‍लान प्‍लांस पेश कर रही हैं, वहीं कुछ बड़े फंड मैनेजर्स भी आपको एक ही स्‍थान पर सभी निवेश विकल्‍प ऑनलाइन मुहैया करवा रहे हैं। इंडिया टीवी पैसा की टीम आज आपको बताने जा रही है इन्‍हीं तरीकों के बारे में जिनके साथ आप ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं।

इस तरह कर सकते हैं डायरेक्‍ट इंवेस्‍टमेंट

ऑनलाइन तरीकों से होने वाले निवेश को आम बोलचाल की भाषा में डायरेक्‍ट इंवेस्‍टमेंट कहा जाता है, इसमें किसी ब्रोकर या एजेंट की मदद नहीं ली जाती। आप सीधे मनचाहे Mutual Funds में निवेश कर सकते हैं। इसके दो तरीके हैं, आप सीधे संबंधित म्‍यूचुअल फंड कंपनी जैसे रिलायंस या कोटक जैसी कंपनियों की वेबसाइट पर जाकर म्‍यूचुअल फंड एसआईपी खरीद सकते हैं। यहां आपको पर्सनल डिटेल्‍स के साथ नो योर कस्‍टमर(केवाईसी) और ऑनलाइन ट्रांजेक्‍शन एवं एसआईपी के लिए बैंक डिटेल भरनी होगी। दूसरी ओर आप जिप-सिप, फंड्स इंडिया, कोटक या आईसीआईसीआई जैसे पोर्टल पर रजिस्‍टर करवा सकते हैं, यहां सभी प्रकार के निवेश एक ही स्‍थान पर करने की सुविधा मिलती है।

ऑनलाइन निवेश के लिए केवाईसी जरूरी

भारत में निवेश के लिए आपकी केवाईसी से जुड़ी प्रक्रिया पूरी होनी बेहद जरूरी है। जब आप एजेंट या ब्रोकर के माध्‍यम से निवेश करते हैं तो वह आपसे मैनुअली सभी डिटेल भरवा कर कंपनी में जमा करवाता है। लेकिन ऑनलाइन में आपको खुद ही पूरी डिटेल भरकर सबमिट करनी होती है। यदि आपने पहले निवेश किया है और केवाइसी पूरी है, तो ऑनलाइन निवेश के वक्‍त इसकी जरूरत नहीं पड़ती, कंपनी की वेबसाइट पर ऑटोमैटिक आपकी पूरी जानकारी फ्लैश कर जाती है। लेकिन यदि आपका केवाईसी नहीं है तो आपको संबंधित फॉर्म का प्रिंटआउट लेकर उसमें डिटेल भरकर पोस्‍ट के माध्‍यम से कंपनी में भेजनी होंगी।

खुद खरीद और बेच सकते हैं फंड्स

डायरेक्‍ट इंवेस्‍टमेंट का सबसे बड़ी खासियत यह है कि आप अपने पोर्टफोलियो पर खुद नजर रख सकते हैं। यदि आपने रिसर्च कर अपने लिए कुछ फंड चुने हैं तो आप खुद बाय या पर्चेज के ऑप्‍शन में जाकर निवेश की शुरुआत कर सकते हैं। आप चाहें तो इन फंड कंपनियों द्वारा दी जाने वाली सलाह की भी मदद ले सकते हैं। यहां आपको विभिन्‍न फंड के बीच आसान कंपेरिजन टेबल भी मिलती है, इसके आधार पर आप अपने लिए सही फंड चुन सकते हैं। इसके अलावा आप खरीदे गए फंड को बेच भी सकते हैं। फंड रिडीम्‍ड करने के बाद आपके अकाउंट से जुड़े बैंक में सीधे यह पैसा ट्रांसफर हो जाएगा।

डायरेक्‍ट इंवेस्‍टमेंट के ये हैं फायदे

चूंकि यहां निवेश के लिए न तो आपको अलग से समय निकालना पड़ता है और न हीं ऑफिसों के चक्‍कर काटने पड़ते हैं। ऐसे में यहां निवेश करना दूसरे सभी तरीकों के मुकाबले काफी आसान है। आप दिन या रात, अपनी सुविधा के अनुसार निवेश कर सकते हैं। चूंकि निवेश की पूरी चाबी आपके हाथ में होती है, इसलिए यहां आप नियमित रूप से निवेश भी कर पाते हैं। साथ ही आपकी फायनेंशियल समझ भी बढ़ती है। दूसरी ओर एजेंट कमीशन के झंझट से मुक्‍त होने के कारण आपको यहां फायदा भी अधिक होता है।

डायरेक्‍ट इंवेस्‍टमेंट के नुकसान

सीधे ऑनलाइन निवेश में फायदों के साथ ही कुछ पेचीदगियां भी हैं। इसमें निवेशक को सब कुछ खुद करना होगा, आपके निवेश के लिए कोई सलाह नहीं मिल पाएगी। ऐसे में ऑनलाइन म्यूच्यूल फंड खरीदना आसान लेकिन कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। यहां आपको नियमित रूप से अपने निवेश को ट्रैक करने की जरूरत होती है। साथ ही नए निवेश विकल्‍पों की खुद ही तलाश करनी होती है।

Promoted Content
auto-expo