1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. दिवाली तक सोना 30000 या 34000? जानिए क्या कहना है विशेषज्ञों का

दिवाली तक सोना 30000 या 34000? जानिए क्या कहना है विशेषज्ञों का

डॉलर के मुकाबले रुपए में कमजोरी और भू - राजनीतिक चिंताओं के चलते दिवाली के दौरान सोना बढ़कर 34,000 रुपए प्रति दस ग्राम तक पहूंच सकता है। विश्लेषकों ने यह अनुमान जताया।

Edited by: India TV Paisa [Updated:10 Jun 2018, 5:55 PM IST]
Analyst view on gold prices till Diwali- IndiaTV Paisa

Analyst view on gold prices till Diwali

मुंबई डॉलर के मुकाबले रुपए में कमजोरी और भू - राजनीतिक चिंताओं के चलते दिवाली के दौरान सोना बढ़कर 34,000 रुपए प्रति दस ग्राम तक पहूंच सकता है। विश्लेषकों ने यह अनुमान जताया। कॉमट्रेंड्ज रिस्क मैनेजमेंट के निदेशक ज्ञानशेखर त्यागराजन ने कहा कि दिवाली तक घरेलू बाजार में सोने की कीमतें 30,000 से 34,000 रुपए प्रति दस ग्राम और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह 1,260-1,400 डॉलर प्रति औंस पर रह सकती हैं। 

उन्होंने कहा कि नीतिगत दरों में वृद्धि के प्रभाव को बाजार ने समा लिया हो और दर में वृ्द्धि मुद्रास्फीति की प्रत्याशा की पुष्टि ही करेगी, मुद्रास्फीति से बचने के लिए लोग सोने की मांग बढ़ाएंगे। साथ ही रुपए की विनिमय दर अभी और गिरने की संभावना है , जिसके चलते दिवाली तक सोना पूर्ववर्ती ऊंचे स्तर पर जा सकता है। 

भारत में आठ जून को सोना 31,010 रुपए प्रति दस ग्राम जबकि न्यूयॉर्क में 1,302.70 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। उन्होंने कहा कि बढ़ती अनिश्चितताओं और भू - राजनीतिक तनाव के चलते वैश्विक स्तर पर सोने की कीमतों में तेजी रहेगी। कमोडिटी एंड करेंसी की प्रबंध निदेशक प्रीति राठी ने कहा कि दिवाली तक सोने के भाव 31,500-31,800 रुपए के दायरे में रह सकते हैं। हालांकि, लंबे अवधि में सोने में तेजी रह सकती है और यह 1,200-1,350 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर सकता है। 

वहीं, एंजेल ब्रोकिंग के मुख्य विश्लेषक प्रथमेष मलय ने कहा, " अमेरिक अर्थव्यवस्था में बहुत आशावाद है और मुझे लगता है ब्याज दर में वृद्धि की संभावना है। यह सोने में उतार - चढ़ाव को सीमित करेगा। इसलिए दिवाली के दौरान सोना 31,500 रुपए के ऊपरी स्तर और 30,000 रुपए के आसपास रह सकता है। 

Web Title: दिवाली तक सोना 30000 या 34000? जानिए क्या कहना है विशेषज्ञों का
Promoted Content
Write a comment
monsoon-climate-change