1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. गैजेट
  5. Microsoft ने नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए लॉन्‍च की Seeing AI एप, मोबाइल कैमरा बनेगा उनकी आखें

Microsoft ने नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए लॉन्‍च की Seeing AI एप, मोबाइल कैमरा बनेगा उनकी आखें

Microsoft ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित एक ऐसी एप विकसित की है, जो नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए वरदान है। इस एप का नाम सीईंग एआई(Seeing AI) रखा गया है।

Sachin Chaturvedi [Updated:13 Jul 2017, 8:25 PM IST]
Microsoft ने नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए लॉन्‍च की Seeing AI एप, मोबाइल कैमरा बनेगा उनकी आखें- IndiaTV Paisa
Microsoft ने नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए लॉन्‍च की Seeing AI एप, मोबाइल कैमरा बनेगा उनकी आखें

नई दिल्‍ली। सोशल टेक्‍नोलॉजी के क्षेत्र में दुनिया की दिग्‍गज आईटी कंपनी Microsoft ने नया कमाल कर दिखाया है। कंपनी ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित एक ऐसी एप विकसित की है, जो नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए बड़े वरदान की तरह है। इस एप का नाम सीईंग एआई(Seeing AI) रखा गया है। इसकी मदद से नेत्रहीन व्‍यक्तियों को अपने आसपास की चीजें देखने और समझने में मदद मिलेगी। फिलहाल यह एप एप्‍पल यूजर्स के लिए ही है। Microsoft ने अभी यह नहीं बताया कि इस तकनीक को एंड्रॉयड के साथ पेश किया जाएगा कि नहीं।

Microsoft ने Seeing AI एप को जारी करते हुए बताया कि सीईंग एआई आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर काम करता है, यह यूजर को सामने लिखे टेक्‍स्‍ट के बारे में पढ़ कर बता देता है, इसके साथ ही यह लोगों को पहचान कर उनके बारे में भी जानकारी दे सकता है। वहीं यह प्रोडक्‍ट और करेंसी नोट को भी पहचान कर उसकी जानकारी यूजर को उपलब्‍ध करा सकता है। इसकी मदद से देख सकने में अक्षम यूजर आस पास घट रही सभी घटनाओं से अवगत रहता है।

Microsoft ने इस तकनीक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि यह माइक्रोसॉफ्ट की एक शोध परियोजना है, जिसमें क्‍लाउड और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को एक साथ लाया गया है। Seeing AI स्‍मार्टफोन के कैमरे या स्‍मार्ट ग्‍लास(चश्‍मे) में लगे कैमरे की मदद से आसपास की चीजों जैसे लोगों, व्‍यक्ति और यहां तक की उनकी संवेदनाओं को भी पहचान लेता है। साथ ही यह आपकी भाषा में इसका वर्णन कर देता है।

Web Title: Microsoft ने नेत्रहीन व्‍यक्तियों के लिए लॉन्‍च की Seeing AI एप
Promoted Content
Write a comment
independence-day-2018