1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Q3 Results: NBCC का शुद्ध लाभ 6 प्रतिशत बढ़ा, इंडियन ओवरसीज बैंक को हुआ 971 करोड़ रुपए का घाटा

Q3 Results: NBCC का शुद्ध लाभ 6 प्रतिशत बढ़ा, इंडियन ओवरसीज बैंक को हुआ 971 करोड़ रुपए का घाटा

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एनबीसीसी लिमिटेड को चालू वित्त वर्ष की दिसंबर में समाप्त तीसरी तिमाही में 68.34 करोड़ रुपए का शुद्ध मुनाफा हुआ है। एक साल पहले की तुलना में कंपनी का मुनाफा 6 प्रतिशत बढ़ा है।

Edited by: Abhishek Shrivastava [Updated:13 Feb 2018, 8:39 PM IST]
NBCC- IndiaTV Paisa
NBCC

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एनबीसीसी लिमिटेड को चालू वित्त वर्ष की दिसंबर में समाप्त तीसरी तिमाही में 68.34 करोड़ रुपए का शुद्ध मुनाफा हुआ है। एक साल पहले की तुलना में कंपनी का मुनाफा 6 प्रतिशत बढ़ा है। कंपनी ने शेयर बाजार को भेजी नियामकीय सूचना में कहा है कि एक साल पहले इसी अवधि में उसका शुद्ध लाभ 64.44 करोड़ रुपए रहा था। 

कंपनी की कुल आय अक्‍टूबर से दिसंबर की तीसरी तिमाही में घटकर 1,546.47 करोड़ रुपए रह गई, जो कि पिछले साल इसी तिमाही में 1,738.72 करोड़ रुपए थी। कंपनी निदेशक मंडल ने अपने इक्विटी शेयर को विभाजित करने की भी सिफारिश की है। कंपनी के दो रुपए अंकित मूल्य वाले शेयर को एक-एक रुपए के दो शेयरों में विभाजित किया जाएगा। इसके लिए शेयरधारकों से मंजूरी लेनी होगी। 

 

इंडियन ओवरसीज बैंक का शुद्ध घाटा बढ़कर 971 करोड़ रुपए  

सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन ओवरसीज बैंक (आईओबी) ने बताया कि उसका शुद्ध घाटा मौजूदा वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में बढ़कर 971.17 करोड़ रुपए हो गया। आलोच्य तिमाही में भी उसके फंसे कर्ज का अनुपात 20 प्रतिशत से अधिक बना रहा। इससे पहले वित्त वर्ष की अक्‍टूबर-दिसंबर तिमाही में बैंक का शुद्ध घाटा 554.44 करोड़ रुपए रहा था। 

सितंबर 2017 को समाप्त तिमाही में बैंक का शुद्ध घाटा 1,222.50 करोड़ रुपए था। बैंक ने शेयर बाजारों को सूचित किया है कि अक्‍टूबर-दिसंबर 2017-18 में उसकी कुल आय घटकर 5,062.38 करोड़ रुपए रही, जो कि एक साल पहले की समान अवधि में 5599.50 करोड़ रुपए रही थी। आलोच्य तिमाही में बैंक ने अपने फंसे कर्ज में काफी कटौती की लेकिन उसकी गैर निष्पादित आस्तियां अब भी ऊंची हैं और 31 दिसंबर 2017 को समाप्त तिमाही में एनपीए सकल अग्रिमों का 21.05 प्रतिशत रहा। 

जीआईसी को हुआ 672.76 करोड़ रुपए का लाभ  

सार्वजनिक क्षेत्र की पुनर्बीमा कंपनी जीआईसी-रि को चालू वित्त वर्ष की दिसंबर में समाप्त तीसरी तिमाही में 672.76 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हुआ है। इससे पिछले साल इसी तिमाही में कंपनी को घाटा हुआ था। कंपनी की यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार 31 दिसंबर 2017 को समाप्त तीन माह की अवधि में कंपनी का शुद्ध प्रीमियम 7477.13 करोड़ रुपए रहा है, जो कि पिछले साल इसी अवधि में 7,635.60 करोड़ रुपए रहा था। 

अप्रैल से दिसंबर 2017 के नौ माह की अवधि में कंपनी की सकल प्रत्यक्ष प्रीमियम आय 36.8 प्रतिशत बढ़कर 33,274.35 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। इस दौरान कंपनी की निवेश आय 28.4 प्रतिशत बढ़कर 3,611.85 करोड़ रुपए रही। कंपनी का नौ माह की अवधि में शुद्ध लाभ 347.4 प्रतिशत उछलकर 2,481.99 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

Promoted Content
auto-expo