1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अगस्त में म्यूचुअल फंड में हुआ 62 हजार करोड़ रुपए का निवेश, 5 महीने का कुल निवेश बढ़कर हुआ 2.2 लाख करोड़

अगस्त में म्यूचुअल फंड में हुआ 62 हजार करोड़ रुपए का निवेश, 5 महीने का कुल निवेश बढ़कर हुआ 2.2 लाख करोड़

निवेशकों ने अगस्त महीने में म्यूचुअल फंड की विभिन्न योजनाओं में करीब 62 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है।

Abhishek Shrivastava [Published on:13 Sep 2017, 6:11 PM IST]
अगस्त में म्यूचुअल फंड में हुआ 62 हजार करोड़ रुपए का निवेश, 5 महीने का कुल निवेश बढ़कर हुआ 2.2 लाख करोड़- IndiaTV Paisa
अगस्त में म्यूचुअल फंड में हुआ 62 हजार करोड़ रुपए का निवेश, 5 महीने का कुल निवेश बढ़कर हुआ 2.2 लाख करोड़

नई दिल्‍ली। निवेशकों ने अगस्त महीने में म्यूचुअल फंड की विभिन्न योजनाओं में करीब 62 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है। इनमें सबसे ज्‍यादा निवेश इक्विटी और मनी मार्केट फंड में हुआ है। एसोसिएशन ऑफ म्‍यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्‍फी) के पास मौजूदा ताजा आंकड़ों के मुताबिक इस साल अप्रैल-अगस्‍त के दौरान म्‍यूचुअल फंड योजनाओं में कुल निवेश बढ़कर 2.2 लाख करोड़ रुपए हो गया है।

2014 से भारतीय म्‍यूचुअल फंड इंडस्‍ट्री में बहुत अधिक ग्रोथ देखने को‍ मिल रही है। पिछले तीन साल और विशेषकर 2016 में इक्विटी और बैलेंस्‍ड फंड में बहुत अधिक निवेश हुआ है। इसमें रिटेल और एनएचआई निवेशकों की हिस्‍सेदारी भी खूब बढ़ी है। आंकड़ों के अनुसार, अगस्त में म्यूचुअल फंड योजनाओं में निवेशकों ने कुल 61,701 करोड़ रुपए का निवेश किया है। जुलाई में यह निवेश 63,504 करोड़ रुपए रहा था।

निवेश में हुई तेजी में लिक्विड फंड एंड मनी मार्केट फंड का योगदान रहा है। इसके अलावा इक्विटी योजनाओं में निवेशकों की दिलचस्पी बनी रही। पिछले महीने लिक्विड एंड मनी मार्केट फंड में 21,352 करोड़ रुपए का निवेश हुआ। इक्विटी तथा इससे जुड़ी योजनाओं में 20,362 करोड़ रुपए निवेश किए गए। बैलेंस्ड और डेट फंड्स में क्रमश: 8,783 करोड़ रुपए और 8,390 करोड़ रुपए का निवेश हुआ है।

हालांकि, गोल्‍ड ईटीएफ से लगातार निकासी रही और इसमें से 58 करोड़ रुपए निवेशकों द्वारा निकाले गए। लिक्विड और मनी मार्केट फंड्स प्रमुख रूप से मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट्स जैसे कॉमर्शियल पेपर, ट्रेजरी बिल, टर्म डिपॉजिट और सर्टीफि‍केट ऑफ डिपॉजिट में निवेश करते हैं। इन फंड्स की परिपक्‍वता अवधि कम होती है और इनका कोई लॉकइन पीरियड नहीं होता।

Promoted Content
Write a comment
international-yoga-day-2018
monsoon-climate-change
Sanju