1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Angel Investor- इंडियन स्टार्ट अप्स में फूंकी नई जान

Angel Investor- इंडियन स्टार्ट अप्स में फूंकी नई जान

सिंगापुर आधारित DealStreetAsia के आंकड़ें (साल 2015 में जुटाए गए) बताते हैं कि मोहनदास पई एक दिग्गज Angel Investor हैं।

Shubham Shankdhar [Updated:28 Sep 2015, 6:30 AM IST]
Angel Investor- इंडियन स्टार्ट अप्स में फूंकी नई जान- IndiaTV Paisa
Angel Investor- इंडियन स्टार्ट अप्स में फूंकी नई जान

सिंगापुर आधारित DealStreetAsia के आंकड़ें (साल 2015 में जुटाए गए) बताते हैं कि मोहनदास पई भारत के सबसे बड़े Angel Investor के रूप में उभरे हैं। Angel Investor वह उद्यमी होता है जो स्टार्ट-अप्स में हिस्सेदारी के बदले निवेश करता है। इस साल जनवरी से सितंबर तक पई ने 9 स्टार्ट अप कंपनियों में निवेश किया। इनमें से कुछ कंपनियां टैक्स इंफॉर्मेशन पोर्टल Taxsutra, ऑनलाइन न्यूज पोर्टल YourStory और पुणे में स्थित रेस्त्रां डिस्काउंट स्टार्ट अप Ressy हैं। मोहनदास पई ने 17 साल Infosys में काम किया है। इसके बाद इंडिया इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के चीफ फाइनेंनशियल ऑफिसर (CFO) बन गए थे।

टॉप एंजल इंवेस्टर की फहरिस्त में पई के बाद दूसरा स्थान रतन टाटा का है जो कि टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन रह चुके हैं। साल 2015 में टाटा ने 8 कंपनियों में निवेश किया है। इन कंपनियों में ऑनलाइन टैक्सी एग्रीगेटर Ola, YourStory और जयपुर स्थित कार पोर्टल CarDekho है। 10 लोगों की सूची में फ्लिपकार्ट के मालिक सचिन और बिन्नी बंसल भी है। इन्होंने न्यूज ऐप News in Shorts और Tracxn स्टार्ट अप्स में निवेश किया है।

इसके बाद Google के इंडियन हेड राजन आनंदन का नाम आता है। इन्होंने साल 2015 में 7 कंपनियों में निवेश किया। आनंदन ने साल 1991 में पार्ट टाइम एंजल इंवेस्टर के तौर पर शुरु किया था और आज मौजूदा समय में इन्होंने करीब 40 कंपनियों में निवेश कर रखा है जिसमें श्रीलंका और अमेरिका भी शामिल है।

DealStreetAsia की रिपोर्ट के तहत तैयार की गई Angel Investor की सूची

list

फाइनेंनशियल रिसर्च फर्म VCCEdge की जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल की तुलना में इस साल के शुरुआती छह महीनों के दौरान भारतीय स्टार्टअप्स को वैंचर कैपिटलिस्ट की तरफ से ज्यादा फंडिंग हुई है। मौजूदा समय में भारत दुनिया में तीसरे स्थान का स्टार्ट अप इकोसिस्टम है जिसमें 3000 नई कंपनियां वर्ष 2014 में खड़ी हुई है।

इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी उद्योग इकाई Nasscom का मानना है कि वर्ष 2020 तक ये आकड़ा तीन गुना, यानी कि 10,500 स्टार्ट अप होने की उम्मीद है।

Promoted Content
Write a comment
Sanju