1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. रोज पूछे जा रहे हैं GST से जुड़े 10,000 सवाल, GSTN हेल्पडेस्क पर कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर की जाएगी दोगुना

रोज पूछे जा रहे हैं GST से जुड़े 10,000 सवाल, GSTN हेल्पडेस्क पर कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर की जाएगी दोगुना

GST लागू होने के बाद इससे संबंधित समस्‍याएं भी खड़ी हो गई हैं, GSTN हेल्‍पडेस्‍क को रोज 10,000 कॉल प्राप्‍त हो रहे हैं, जिसमें सवाल पूछे जा रहे हैं।

Abhishek Shrivastava [Updated:11 Jul 2017, 6:40 PM IST]
रोज पूछे जा रहे हैं GST से जुड़े 10,000 सवाल, GSTN हेल्पडेस्क पर कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर की जाएगी दोगुना- IndiaTV Paisa
रोज पूछे जा रहे हैं GST से जुड़े 10,000 सवाल, GSTN हेल्पडेस्क पर कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर की जाएगी दोगुना

नई दिल्ली। देश में गुड्स एंड सर्विसेस टैक्‍स (GST) लागू होने के बाद इससे संबंधित समस्‍याएं और सवाल भी खड़े हो गए हैं। GSTN हेल्‍पडेस्‍क को प्रतिदिन 10,000 कॉल प्राप्‍त हो रहे हैं, जिसमें GST से संबंधित सवाल पूछे जा रहे हैं। सरकार ने व्‍यापारियों और आम जनता की मदद के लिए जीएसटीएन हेल्‍पडेक्‍स की स्‍थापना की है।

इन सवालों में एक लगातार पूछा जाने वाला प्रश्न यह है कि मैं अपना पंजीकरण कैसे कराऊं। इसके अलावा पासवर्ड भूलने से संबंधित सवाल भी बड़ी संख्या में पूछे जा रहे हैं। जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) पर काम का बोझा इतना अधिक हो चुका है कि वह दो सप्ताह में अपने कॉल सेंटर के कर्मचारियों की संख्या को दोगुना कर 400 करने की तैयारी कर रही है। इससे जीएसटीएन को रिटर्न से संबंधित सवालों का जवाब देने में मदद मिलेगी।रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया सितंबर से शुरू होगी।

जीएसटीएन वह कंपनी है, जो सबसे बड़े अप्रत्यक्ष कर सुधार के लिए आईटी ढांचा बनाने का काम कर रही है। कंपनी ने 25 जून को कॉल सेंटर खोला और 0120-4888999 हेल्पलाइन नंबर करदाताओं की मदद और उनकी नामांकन से संबंधित पूछताछ के लिए दिया। करीब 69 लाख उत्पादक, वैट और सेवाकर दाता पहले ही जीएसटीएन पोर्टल पर स्थानांतरित हो चुके हैं। इसके अलावा 4.5 लाख नए करदाता इसके तहत आए हैं। वस्‍तु एवं सेवा कर एक जुलाई से लागू हुआ है।

जीएसटीएन के चेयरमैन नवीन कुमार ने कहा, हम कॉल सेंटर पर करदाताओं की ओर से रोजाना 10,000 कॉल मिल रही हैं। हम दो सप्ताह में कॉल सेंटर के एजेंटों की संख्या दोगुना कर 400 करेंगे, जिससे रिटर्न फाइलिंग के समय हमारे पास पर्याप्त श्रमबल हो। नोएडा स्थित कॉल सेंटर पर सबसे ज्यादा पूछताछ जीएसटीएन पर पंजीकरण या पोर्टल पर लॉग इन करने, पासवर्ड के बारे पूछने और दस्तावेजों को अपलोड करने से संबंधित आ रही है।

कई लोग यह पूछ रहे हैं कि कैसे स्थायी रेफरेंस संख्या (टीआरएन) बनाई जाए। इसके अलावा डिजिटल हस्ताक्षर को अपलोड करने के बारे में भी सवाल पूछे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि एजेंट किसी सवाल का जवाब नहीं दे पाते तो उसे निरीक्षक के पास भेजा जाता है। जटिल सवालों पर जीएसटीएन के विशेषज्ञों की मदद ली जाती है।

Web Title: रोज पूछे जा रहे हैं GST से जुड़े 10,000 सवाल
Promoted Content
Write a comment
atal-bihari-vajpayee
monsoon-climate-change