1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. 2015-16 में जाली नोट और काली कमाई के दोगुने मामले आए सामने, 562 करोड़ रुपये किए गए जब्त

2015-16 में जाली नोट और काली कमाई के दोगुने मामले आए सामने, 562 करोड़ रुपये किए गए जब्त

पिछले वित्त वर्ष के दौरान देश के बाजारों में संदिग्ध लेन-देन, जाली नोट, सीमा पार से पैसों के ट्रांसफर के पकड़े गए मामले बढ़कर दोगुने हो गए।

Manish Mishra [Published on:31 Jul 2017, 10:26 AM IST]
2015-16 में जाली नोट और काली कमाई के दोगुने मामले आए सामने, 562 करोड़ रुपये किए गए जब्त- IndiaTV Paisa
2015-16 में जाली नोट और काली कमाई के दोगुने मामले आए सामने, 562 करोड़ रुपये किए गए जब्त

नई दिल्ली। पिछले वित्त वर्ष के दौरान देश के बाजारों में संदिग्ध लेन-देन, जाली नोट, सीमा पार से पैसों के ट्रांसफर के पकड़े गए मामले बढ़कर दोगुने हो गए और 560 करोड़ रुपए से अधिक के कालेधन का खुलासा हुआ। एक सरकारी रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। वित्त मंत्रालय के प्रतिष्ठित तकनीकी जांच निकाय फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट (FIU) की रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2015-16 के दौरान बड़ी संख्या में ऐसी घटनाएं सामने आईं। सभी बैंक और वित्तीय कंपनियां देश के मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद फाइनेंसिंग  निरोधक उपायों के अनुपालन की बाध्यता के तहत ऐसे किसी भी प्रकार के लेन-देन की खबर इस यूनिट को देती हैं।

यह भी पढ़ें : Tesla ने अपने ग्राहकों को सौंपी मॉडल-3 कार, खासियतों से भरी यह कार एक बार चार्ज होने पर चलेगी 500 किमी

हाल की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2015-16 में FIU को ऐसी रिपोर्ट मिलने, उसके प्रोसेस और वितरण में खासी वृद्धि हुई। उसके अनुसार, नकद लेन-देन रिपोर्ट की संख्या 2014-15 के 80 लाख से बढ़कर 2015-16 में 1.6 करोड़ जबकि संदिग्ध लेन-देन रिपोर्ट 58,646 से बढ़कर 1,05,973 हो गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि जाली नोट के चलन संबंधी दर्ज रिपोर्ट्स में 16 प्रतिशत और लाभ-निरपेक्ष संगठनों के लेनदेन की रिपोर्ट्स में 25 प्रतिशत वृद्धि हो गई। इस दौरान सीमापार इलेक्ट्रॉनिक अंतरण के पकड़े गए संदिग्ध मामलों में 850 प्रतिशत वृद्धि हुई।

यह भी पढ़ें :  Jio के फ्री फोन को टक्‍कर देगी Idea, जल्‍द लॉन्‍च करेगी अपना बेहतर और स्‍मार्ट मोबाइल हैंडसेट

इस केंद्रीय एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम अधिनयम की विभिन्न धाराओं के तहत नियमों का उल्लंघन करने वाले निकायों को रेकार्ड 21 पाबंदियां भी जारी की। इस एजेंसी पर भारतीय बैंकिंग और अन्य वित्तीय चैनलों में संदिग्ध लेन-देनों के विश्लेषण का जिम्मा है।

Web Title: 2015-16 में जाली नोट और काली कमाई के दोगुने मामले आए सामने
Promoted Content
Write a comment
atal-bihari-vajpayee