1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. 232 विज्ञापन देते हैं प्रोडक्ट की भ्रामक जानकारी, विज्ञापन मानक परिषद ने शिकायतों को सही पाया

232 विज्ञापन देते हैं प्रोडक्ट की भ्रामक जानकारी, विज्ञापन मानक परिषद ने शिकायतों को सही पाया

इन विज्ञापनों में मर्क, HUL, डाबर, फाक्सवैगन ग्रुप, जानसन एंड जानसन, अंबुजा सीमेंट, अपोलो हास्पिटल तथा जीसीपीएल के विज्ञापन शामिल हैं

Manoj Kumar [Published on:29 Nov 2017, 9:05 AM IST]
232 विज्ञापन देते हैं प्रोडक्ट की भ्रामक जानकारी, विज्ञापन मानक परिषद ने शिकायतों को सही पाया- IndiaTV Paisa
232 विज्ञापन देते हैं प्रोडक्ट की भ्रामक जानकारी, विज्ञापन मानक परिषद ने शिकायतों को सही पाया

नई दिल्ली। टेलिविजन, रेडियो और दूसरे संचार माध्यमों पर दिए जाने वाले विज्ञापनों पर नजर रखने वाली सरकारी संस्था भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (ASCI) सितंबर महीने के लिये 232 विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों को सही पाया है। इन विज्ञापनों में मर्क, HUL, डाबर, फाक्सवैगन ग्रुप, जानसन एंड जानसन, अंबुजा सीमेंट, अपोलो हास्पिटल तथा जीसीपीएल के विज्ञापन शामिल हैं।

ASCI की ग्राहक शिकायत परिषद (CCC) को महीने के दौरान 305 शिकायतें मिली। ASCI ने जिन विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों को सही पाया है, उसमें 151 शिक्षा श्रेणी, 62 स्वास्थ्य, वार व्यक्तिगत देखभाल से संबद्ध हैं। परिषद ने फाक्सवैगन ग्रुप सेल्स इंडिया के इस विज्ञापन को गलत माना जिसमें कम ईएमआई का दावा किया है जो नियम एवं शर्तों पर निर्भर है।

इसके अलावा परिषद ने HUL के विज्ञापन के खिलाफ भी शिकायतों को सही पाया जिसमें दावा किया किया गया है कि मुंहासे मुक्त चेहरे के लिये जापान की ‘ग्रीन टी’ और त्वचा के आंतरिक निखार के लिए कोरिया के ‘पिंक पर्ल’ हैं।

इसी तरह बेबी प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी जानसन एंड जानसन के बेबी डिटर्जेंट पाउडर के विज्ञापन और फार्मा कंपनी मर्क के एक प्रोडक्ट के विज्ञापन पर की गई शिकायत को भी सही पाया गया है।

Promoted Content
auto-expo