1. You Are At:
  2. होम
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. पेट की गर्मी को रातोंरात ठीक कर देगी घर में तैयार की गई ये खास चीज

पेट की गर्मी को रातोंरात ठीक कर देगी घर में तैयार की गई ये खास चीज

गर्मियों में हमे अपने पेट से लेकर स्किन का तक का खास ख्याल रखना पड़ता है। क्योंकि यह ऐसा मौसम है जिसमें आपके शरीर में पानी का सही मात्रा में होना बेहद जरूरी है।

Written by: India TV Lifestyle Desk [Updated:16 Apr 2018, 6:36 PM IST]
summer season- Khabar IndiaTV
summer season

हेल्थ डेस्क: गर्मियों में हमे अपने पेट से लेकर स्किन का तक का खास ख्याल रखना पड़ता है। क्योंकि यह ऐसा मौसम है जिसमें अगर आप अपने बॉडी और दिमाग का खास ख्याल नहीं रखे तो आपकी तबीयत भी खराब हो सकती है।

गर्मियों में अगर आपको भी मुंह के छालों की शिकायत रहती है तो गुलकंद आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। यह न सिर्फ मुंह के छालों को ठीक करने में मदद करता है बल्कि आपके मोटापे को भी कम करता है। आइए जानते हैं इसके अनेक फायदों के बारे में इसे बनाने की सही विधि के साथ । 

गुलकंद में मौजूद विटामिन सी, ई और बी की वजह से व्यक्ति को लू से राहत मिलती है। इसमें शरीर को ठंडक पहुंचाने वाले गुण होते हैं, जिससे गर्मियों में शरीर ठंडा रहता है। गुलाब की पंखुड़ियों से बनने वाला गुलकंद ना केवल खाने में स्वादिष्ट लगता है बल्कि यह आपके स्वास्थ्य के लिये भी काफी अच्छा होता है। आइए सबसे पहले जानते है इसे कैसे बनाया जाता है।  

गुलकंद बनाने का तरीका 
200 ग्राम गुलाब की पंखुडियां
100 ग्राम पिसी शक्कर
1 टीस्पून पिसी छोटी इलायची
1 टीस्पून पिसी सौंफ

गुलकंद

गुलकंद

बनाने की विधि:-
गुलाब की पंखुडियों को धो लें और फिर किसी कांच के बर्तन में ढंक कर रख दें। अब इस जार में पिसी शक्कर मिलाएं। इसके बाद इसमें पिसी इलायची और सौंठ डाल कर 10 दिन के लिये धूप में रख दें। इसे बीच बीच में चलाती रहें। जब आपको लगे कि पंखुडियां गल चुकी हैं तो समझ जाइए कि आपका गुलकंद तैयार हो चुका है।

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: Gulkand Recipe How to Make Gulkand at Home: पेट की गर्मी को रातोंरात ठीक कर देगी घर में तैयार की गई ये खास चीज
Promoted Content
Write a comment
monsoon-climate-change
Sanju