1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. यूपी: राज्यसभा चुनावों में BJP के 9वें प्रत्याशी का खेल बिगाड़ेगी यह सहयोगी पार्टी?

यूपी: राज्यसभा चुनावों में BJP के 9वें प्रत्याशी का खेल बिगाड़ेगी यह सहयोगी पार्टी?

प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में अपने संख्या बल के आधार पर बीजेपी 10 में से 8 सीटें आसानी से जीत सकती है, मगर उसने अपना नौवां प्रत्‍याशी भी खड़ा किया है...

Reported by: Bhasha [Published on:18 Mar 2018, 1:03 PM IST]
OM Prakash Rajbhar | Facebook- Khabar IndiaTV
OM Prakash Rajbhar | Facebook

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के उपचुनाव में हाल में हुई पराजय के बाद सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को सूबे की 10 सीटों के लिए इस हफ्ते होने वाले राज्यसभा चुनाव में भी मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है। बीजेपी के साथ मिलकर पिछला विधानसभा चुनाव लड़ने वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के 4 विधायक आगामी राज्यसभा चुनाव में बीजेपी का खेल बिगाड़ सकते हैं। प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में अपने संख्या बल के आधार पर बीजेपी 10 में से 8 सीटें आसानी से जीत सकती है, मगर उसने अपना नौवां प्रत्‍याशी भी खड़ा किया है। वहीं, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी बाकी 2 सीटें जीतने के प्रति आश्वस्त हैं।

‘हमने अभी अंतिम फैसला नहीं लिया है’

कई मौकों पर सरकार के प्रति नाराजगी जता चुके ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अगर आगामी 23 मार्च को होने जा रहे राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के पक्ष में वोट नहीं करती है, तो सत्तारूढ़ दल को अपना नौवां प्रत्याशी जिताने के लिए मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने रविवार को कहा, ‘हम अभी से कैसे बता सकते हैं कि अगले राज्यसभा चुनाव में हम बीजेपी को वोट देंगे या किसी अन्य पार्टी को। हमने अभी इस पर कोई अंतिम फैसला नहीं किया है।’ इससे पहले कई मौकों पर सरकार के प्रति नाराजगी जता चुके राजभर ने कहा, ‘हालांकि हम अभी बीजेपी के साथ गठबंधन में हैं, लेकिन सवाल यह है कि क्या बीजेपी ने राज्यसभा और गोरखपुर तथा फूलपुर लोकसभा सीटों के उपचुनाव के लिए अपने प्रत्याशी तय करने से पहले हमसे कोई सलाह ली थी? ’

‘बीजेपी ने प्रत्याशी खड़ा करते वक्त पूछा तक नहीं’
राजभर ने कहा कि बीजेपी ने नगरीय निकाय चुनाव में अपने प्रत्याशी खड़े किए, लेकिन क्या तब उसने गठबंधन धर्म निभाया? यहां तक कि लोकसभा उपचुनाव में भी बीजेपी ने अपने सहयोगी दलों से यह नहीं पूछा कि उपचुनाव में उनकी क्या भूमिका होगी? उन्‍होंने यह भी कहा कि जब तक बीजेपी का कोई नेता उनसे नहीं पूछेगा तब तक बात आगे नहीं बढ़ेगी। राजभर ने कहा कि प्रत्याशी तय करना बीजेपी का काम है, लेकिन एक शिष्टाचार के नाते उसे कम से कम एक बार तो पूछना ही चाहिए कि क्या कोई सहयोगी दल चुनाव प्रचार में उसके साथ आना चाहेंगे, मगर बीजेपी के किसी भी नेता ने हमसे यह नहीं पूछा। अब ऐसे हालात में हम यह कैसे कह सकते हैं कि हम राज्यसभा चुनाव में बीजेपी को वोट देंगे या किसी अन्य पार्टी को।

‘गोरखपुर में बीजेपी को 30,000 वोट दिलवा सकते थे’
प्रदेश के कैबिनेट मंत्री राजभर ने इस सवाल पर कि क्या उनकी पार्टी के विधायक क्रॉस वोटिंग करेंगे, कहा कि हम बीजेपी के साथ गठबंधन में हैं और अगर वह गठबंधन धर्म नहीं निभाती है तो क्या हमें उसके साथ जाना चाहिए? राजभर ने कहा कि गोरखपुर में हाल में हुए लोकसभा उपचुनाव में उनकी पार्टी बीजेपी को कम से कम 30,000 वोट दिलवा सकती थी, लेकिन ऐसा लगता है कि बीजेपी की नजर में हमारी कोई उपयोगिता नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में दलितों और पिछड़ों की उपेक्षा की जा रही है और यह सिलसिला जारी है। इस बीच प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की नाराजगी पर कहा कि बीजेपी के सभी सहयोगी दल उसके साथ हैं और वह आश्वस्त हैं कि राज्यसभा चुनाव के दौरान वे बीजेपी प्रत्याशियों को वोट देंगे। गठबंधन मजबूत है और सारे सहयोगी दल बीजेपी के साथ खड़े हैं। शुक्ला ने विश्वास जताया कि राज्यसभा चुनाव के लिए खड़े बीजेपी के सभी प्रत्याशी जीत हासिल करेंगे।

राज्यसभा में जाने का यह है गणित
मालूम हो कि उत्‍तर प्रदेश में राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए किसी प्रत्याशी को कम से कम 37 प्रथम वरीयता की वोटों की जरूरत है। राज्य की 403 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और अपना दल के पास कुल 324 सीटें हैं ऐसे में बीजेपी अपने आठ प्रत्याशियों को आसानी से चुनाव जिता सकती है। इसके बावजूद उसके पास 28 वोट बच जाएंगे। अगर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी बीजेपी के पक्ष में नहीं भी जाती है तो भी भगवा दल अपने आठ प्रत्याशियों को आसानी से जिता लेगा। समाजवादी पार्टी के पास 47 विधायक हैं ऐसे में वह अपने एक प्रत्याशी को आसानी से जिता सकती हैं। इसके बावजूद उसके पास 10 वोट बच जाएंगे। 

...तो बहुजन समाज पार्टी को हो जाएगी मुश्किल
बहुजन समाज पार्टी के पास 19 विधायक हैं और वह अपने दम पर किसी प्रत्याशी को राज्यसभा नहीं भेज सकती। इसके लिए उसे सपा के 10, कांग्रेस के 7 और राष्ट्रीय लोकदल के एक विधायक का समर्थन चाहिए। हालांकि हाल में ही सपा छोड़कर बीजेपी में गए नरेश अग्रवाल के बेटे और हरदोई से सपा विधायक नितिन अग्रवाल के बीजेपी को वोट देने की संभावना है। ऐसे में सपा का एक वोट कम हो जाएगा। इससे बसपा प्रत्याशी की जीत की राह मुश्किल हो जाएगी, लेकिन अगर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की नाराजगी विपक्ष के पक्ष में गई तो बसपा प्रत्याशी को आसानी से जीत मिल सकती है।

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Uttar Pradesh News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: Rajya Sabha Polls: Suheldev Bharatiya Samaj Party of Om Prakash Rajbhar has not shown its cards yet
Promoted Content
Write a comment
monsoon-climate-change
Sanju