1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. अनारक्षित टिकटों के लिए रेलवे ने शुरू मोबाइल एप, बुकिंग और कैंसिल की सुविधा

अनारक्षित टिकटों के लिए रेलवे ने शुरू मोबाइल एप, बुकिंग और कैंसिल की सुविधा

रेलवे ने अनारक्षित टिकटों की बुकिंग और इन्हें रद्द करने सहित अन्य सुविधाओं के साथ एक मोबाइल एप की शुरुआत की है।

Edited by: Khabarindiatv.com [Published on:13 Jun 2018, 10:32 PM IST]
Representational image- Khabar IndiaTV
Representational image

नयी दिल्ली: रेलवे ने अनारक्षित टिकटों की बुकिंग और इन्हें रद्द करने सहित अन्य सुविधाओं के साथ एक मोबाइल एप की शुरुआत की है। रेल मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि एप में सावधिक (सीजन) और प्लेटफॉर्म टिकटों के नवीनीकरण, आर-वॉलेट की बकाया राशि की जांच और लोड करने तथा यूजर प्रोफाइल मैनेजमेंट और बुकिंग हिस्ट्री की भी सुविधा है। 

रेल सूचना प्रणाली केंद्र (सीआरआईएस) ने मोबाइल आधारित एप्लिकेशन 'अटसनमोबाइल' विकसित किया है। यूजर इस एप को गूगल प्‍ले स्‍टोर या विन्‍डोज स्‍टोर से निःशुल्क डाउनलोड कर सकते हैं। बयान में कहा गया है, ‘‘सबसे पहले यात्री अपना मोबाइल नंबर, नाम, शहर, रेल की डिफ़ॉल्ट बुकिंग, श्रेणी, टिकट का प्रकार, यात्रियों की संख्या और बार-बार यात्रा करने के मार्गों का विवरण देकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं। पंजीकरण कराने पर यात्री का जीरो बैलेंस का रेल वॉलेट (आर-वॉलेट) स्‍वत: ही बन जाएगा। आर-वॉलेट बनाने के लिए कोई अतिरिक्त शुल्‍क नहीं देना होगा।’’

आर-वॉलेट को किसी भी यूटीएस काउंटर पर या वेबसाइट पर उपलब्ध विकल्प के माध्यम से रीचार्ज किया जा सकता है। अग्रिम टिकट बुकिंग की अनुमति नहीं है। यानी, हमेशा वर्तमान तिथि में ही यात्रा की जाएगी। बयान के मुताबिक, ‘‘यात्री टिकट का प्रिंट लिए बगैर भी यात्रा कर सकते हैं। टिकट जांच कर्मी द्वारा टिकट मांगने पर यात्री एप में 'टिकट दिखाएं' विकल्प का उपयोग कर टिकट दिखायेंगे।

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: अनारक्षित टिकटों के लिए रेलवे ने शुरू मोबाइल एप, बुकिंग और कैंसिल की सुविधा: Rly introduces mobile app to book unreserved tickets
Promoted Content
Write a comment
international-yoga-day-2018
monsoon-climate-change
Sanju