1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. 26/11: लियोपोल्ड कैफे से Taj होटल तक जख्म ताजा हैं

26/11: लियोपोल्ड कैफे से ताजमहल होटल तक जख्म अभी ताजा हैं....

नई दिल्ली: आज 26/11 मुंबई हमलें की सातवीं बरसी है। आज ही वो खूनी दिन था जब कोलाबा के समुद्री तट पर 10 बंदूकधारी आतंकी उतरे थे और उन्होंने पूरे मुंबई को दहला दिया। इन

India TV News Desk [Updated:26 Nov 2015, 1:11 PM IST]
26/11: लियोपोल्ड कैफे से Taj...- Khabar IndiaTV
26/11: लियोपोल्ड कैफे से Taj होटल तक जख्म ताजा हैं

नई दिल्ली: आज 26/11 मुंबई हमलें की सातवीं बरसी है। आज ही वो खूनी दिन था जब कोलाबा के समुद्री तट पर 10 बंदूकधारी आतंकी उतरे थे और उन्होंने पूरे मुंबई को दहला दिया। इन 10 आतंकियों ने मुंबई में घूम-घूम कर आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 166 लोगों को मार दिया। 26 नवंबर की रात ही आतंकवाद निरोधक दस्ते के प्रमुख हेमंत करकरे समेत मुंबई पुलिस के कई आला अधिकारियों को भी जान गंवानी पड़ी थी।

हमारे बहादुर जवानों ने 9 आतंकियों को तो मार गिराया, लेकिन एक आतंकी को जिंदा पकड़ा। इस आतंकी का नाम अजमल कसाब था जिसने अपने आका की वहशियाना साजिश को बेपर्दा किया। आज हम उन सभी बेगुनाह लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं जिन्होंने इस दिन अपनी जान गंवाई थी। दो पांच सितारा होटल, रेलवे स्टेशन और एक यहूदी केंद्र आज भी इस खौफनाक दिन की याद भुलाने की कोशिश कर रहे हैं। आज हम अपनी खबर में आपको बताएंगे कि आतंकियों ने उस दिन किन किन जगहों पर मौत का तांडव मचाया था।

लियोपोल्ड कैफे-

कोलाबा में उतर कर दसों आतंकी दो गुटों में बंट गए। दो हमलावरों ने लियोपोल्ड कैफे में पहुंचकर अंधाधुंध गोलीबारी शुरु कर दी। आपको बता दें कि यह मुंबई का एक ऐसा कैफे है जहां अधिकतर विदेशी लोग ही आते हैं। कैफे में बैठे लोग कुछ समझ पाते उससे पहले ही आतंकियों ने गोली चलाना शुरु कर दिया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस गोलीबारी में करीब 10 लोगों की मौत हो गई थी।

अगली स्लाइड में देखिए आतंकियों ने कहां मचाया था कोहराम

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: 26/11: लियोपोल्ड कैफे से ताजमहल होटल तक जख्म अभी ताजा हैं....
Promoted Content
Write a comment
atal-bihari-vajpayee
monsoon-climate-change