1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. विक्रमादित्य करेगा संयुक्त कमांडर सम्मेलन की मेजबानी

पहली बार INS विक्रमादित्य करेगा संयुक्त कमांडर सम्मेलन की मेजबानी

नयी दिल्ली: तीनों सेनाओं का संयुक्त कमांडर सम्मेलन अगले महीने कोच्चि में भारत के आधुनिकतम विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर होगा जो राष्ट्रीय राजधानी के बाहर किसी बड़े रक्षा सम्मेलन की मेजबानी करने वाला पहला

Bhasha [Updated:26 Nov 2015, 8:20 AM IST]
विक्रमादित्य करेगा...- Khabar IndiaTV
विक्रमादित्य करेगा संयुक्त कमांडर सम्मेलन की मेजबानी

नयी दिल्ली: तीनों सेनाओं का संयुक्त कमांडर सम्मेलन अगले महीने कोच्चि में भारत के आधुनिकतम विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर होगा जो राष्ट्रीय राजधानी के बाहर किसी बड़े रक्षा सम्मेलन की मेजबानी करने वाला पहला स्थान होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल अक्तूबर में यहां संयुक्त कमांडर सम्मेलन में अपने भाषण में सुझाव दिया था कि सशस्त्र बल इस तरह के सम्मेलन केवल नयी दिल्ली में करने के बजाय जहाजों पर या एयर-बेसों पर कर सकते हैं। रक्षा सूत्रों ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 दिसंबर को भारत के आधुनिकतम विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर वार्षिक संयुक्त कमांडर सम्मेलन को संबोधित करेंगे।वैसे सम्मेलन अक्तूबर में आयोजित किया जाना था लेकिन बिहार चुनाव की वजह से इसे टाल दिया गया।

अभेद्य किला है INS विक्रमादित्य

ये जंगी पोत कई सारी खासियतों को अपने में भीतर समेटे हुए है। आइए आपको बताते हैं आईएनएस विक्रमादित्य की खास बातें। समंदर पर चलता-फिरता अभेद्य किला। 283.5 मीटर लंबा-यानी फुटबाल के तीन मैदान के बराबर। 20 मंजिला इमारत जितना ऊंचा। 44,500 टन भारी। भारतीय नौसेना का सबसे लंबा और विशाल युद्धपोत-सागर सम्राट आईएनएस विक्रमादित्य। विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य 30 लड़ाकू जहाज ले जाने की क्षमता से लैस है। इस पर मौजूद चौथी पीढ़ी के लड़ाकू विमान मिग-29K इसका सबसे बड़ा हथियार हैं। इस पर छह कोमोव-31 हेलीकॉप्टर भी तैनात रहेंगे, जो इसे पनडुब्बी हमले से भी बचा सकते हैं। विक्रमादित्य 6 नली वाली AK-630 तोप से लैस है। जमीन से हवा पर मार करने वाली बराक मिसाइल इसे दुश्मन के लड़ाकू जहाज से बचाएंगे।

विक्रमादित्य अपने चारो तरफ 500 किलोमीटर के इलाके पर न्रुजर रख सकता है। मिग-29K विमानों के जरिए आसमान पर 2000 किलोमीटर की दूरी तक दबदबा और समंदर में एक बार में 45 दिन तक रहने की क्षमता। जाहिर है आईएनएस विक्रमादित्य को गेम चेंजर यानी तस्वीर बदल देने वाले ताकत की तौर पर देखा जाता है।

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: पहली बार INS विक्रमादित्य करेगा संयुक्त कमांडर सम्मेलन की मेजबानी
Promoted Content
Write a comment
monsoon-climate-change