1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. ISI के हनीट्रैप में फंस गया ग्रुप कैप्टन, सेक्स चैट के लिए अरुण मारवाह ने की थी जासूसी!

ISI के हनीट्रैप में फंस गया ग्रुप कैप्टन, सेक्स चैट के लिए अरुण मारवाह ने की थी जासूसी!

आईएसआई के एजेंट मॉडल के रूप में मारवाह से फोन पर लगातार चैटिंग होती थी, दोनों एक दूसरे को अश्लील मैसेज भेजते थे और अश्लील बातों से पूरी तरह अपने जाल में फंसाने के बाद आईएसआई एजेंट ने मारवाह से गोपनीय दस्तावेज की मांग शुरू की।

Written by: Laxmi Poddar [Updated:09 Feb 2018, 10:02 AM IST]
IAF-officer-who-leaked-info-to-ISI-for-sex-chats-arrested- Khabar IndiaTV
EXCLUSIVE: वायुसेना में जासूसी पर बहुत बड़ा खुलासा, ISI का हनीट्रैप और फंसा ग्रुप कैप्टन

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एयरफोर्स के एक ग्रुप कैप्टन रैंक के सीनियर अफसर को भारतीय वायुसेना की अहम जानकारी पाकिस्तान को देने के आरोप में गिरफ्तार किया है। ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह नाम के इस अफसर पर आरोप है कि यह पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के हनीट्रैप में फंस गया था। आरोप है कि वायु सेना का ये अफसर सोशल मीडिया पर अश्लील चैट करने के एवज में सेना की गुप्त जानकारी आईएसआई को व्हाट्सएप से भेजता था। शिकायत मिलने पर पहले तो एयर फोर्स ने इंटरनल जांच की और फिर शिकायत सही मिलने पर मामला दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को सौंप दिया गया। स्पेशल सेल ने वायु सेना के इस अफसर को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जहां से उसे पांच दिन की रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है।

51 साल के अरुण मारवाह इंडियन एयरफोर्स में ग्रुप कैप्टन हैं। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने वायुसेना के इस सीनियर अफसर को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। सूत्रों की मानें तो मामला मिड दिसंबर का है जब आईएसआई ने दो फर्जी फेसबुक प्रोफाइल के जरिए अरुण मारवाह को फंसाया था। दोनों फेसबुक प्रोफाइल सुंदर मॉडल के नाम और तस्वीरों से बनाए गए थे।

ISI का हनीट्रैप फंसा ग्रुप कैप्टन

-दिल्ली पुलिस ने IAF के ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह को अरेस्ट किया
-मारवाह पर ISI के लिए भारत के खिलाफ जासूसी का आरोप
-दिसंबर, 2017 में ISI ने ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह को फंसाया
-ISI ने फेसबुक पर दो फर्जी प्रोफाइल से मारवाह से दोस्ती की
-फेसबुक प्रोफाइल खूबसूरत मॉडल के नाम और तस्वीरों से बने थे
-फेसबुक पर दोस्ती के बाद मारवाह उनसे अश्लील बातें करते थे
-दोनों तरफ से मोबाइल पर अश्लील चैट मैसेज भी शेयर होते थे
-अश्लील चैट के बदले ISI के एजेंट खुफिया जानकारी मांगते थे
-मारवाह ने ISI को डिफेंस साइबर एजेंसी की जानकार दी
-डिफेंस स्पेस एजेंसी और स्पेशल ऑपरेशंस की जानकार भी दी
-मारवाह ने ISI को वायुसेना के युद्धाभ्यास की जानकारी लीक की
-मारवाह अपने स्मार्ट फोन से ISI एजेंटो को जानकारी देते थे
-अहम दस्तावेज के फोटो खींचकर व्हाट्सएप किया करते थे
-पहले वायुसेना ने की जांच और फिर दिल्ली पुलिस ने जांच की
-कोर्ट ने ग्रुप कैप्टन मारवाह को 5 दिन की रिमांड पर भेज दिया

दरअसल, फेसबुक के इन प्रोफाइल्स पर आईएसआई के एजेंट ही मॉडल के रूप में मारवाह को झांसा दे रहे थे। दोनों के बीच फोन पर लगातार चैटिंग होती थी, दोनों एक दूसरे को अश्लील मैसेज भेजते थे और अश्लील बातों से पूरी तरह अपने जाल में फंसाने के बाद आईएसआई एजेंट ने मारवाह से गोपनीय दस्तावेज की मांग शुरू की। आरोप है कि मारवाह ने कुछ गोपनीय दस्तावेज आईएसआई एजेंटों को मुहैया भी करा दिए। इंटरनल जांच शुरू हुई और मारवाह को वायुसेना की काउंटर इंटेलीजेंस विंग ने हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की जहां इसने जासूसी की बात कबूल कर ली जिसके बाद वायुसेना ने दिल्ली पुलिस से संपर्क किया।

कौन हैं अरुण मारवाह?
-भारतीय वायुसेना में ग्रुप कैप्टन के पद पर हैं अरुण मारवाह
-ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह को पैरा जंपिंग में महारथ हासिल है
-अरुण मारवाह अब तक 3000 से ज्यादा पैरा जंपिंग लगा चुके हैं
-वायुसेना मुख्यालय में पैरा ऑपरेशंस का डायरेक्टर बनाया गया

इंटरनल इंक्वायरी में ग्रुप कैप्टन मारवाह की आईएसआई के लिए जासूसी की बात सामने आने के बाद उसकी दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से शिकायत की गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए इसे स्पेशल सेल को जांच के लिए सौंपा गया। स्पेशल सेल ने गुरुवार को मुकदमा दर्ज कर मारवाह को गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली पुलिस के मुताबिक जासूसी के मामले में वायुसेना के इतने सीनियर अफसर की गिरफ्तारी का ये पहला मामला है।

पैरा जंपिंग में महारथ हासिल रखने वाले अरुण मारवाह अब तक तीन हजार से ज्यादा पैरा जंपिंग लगा चुके हैं। इसी खासियत की वजह से मारवाह को दिल्ली में वायुसेना मुख्यालय में पैरा ऑपरेशंस का डायरेक्टर बनाया गया लेकिन हसीन लड़कियों से अश्लील बातें करने के जाल में ऐसे फंसे कि देश के खिलाफ जासूसी करने लगे। अभी तक की जांच में अहम जानकारी देने के बदले में पैसे के लेन-देन की कोई बात सामने नहीं आई है। गिरफ्तारी के बाद मारवाह को गुरुवार को ही दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें पांच दिन की रिमांड पर भेज दिया गया। स्पेशल सेल ने आरोपी अफसर का मोबाइल जब्त कर लिया है साथ ही अब स्पेशल सेल ये पता लगाने में जुटी है कि इस अफसर ने आईएसआई एजेंट कौन-कौन से गोपनीय दस्तावेज मुहैया कराए हैं।

Promoted Content
auto-expo