1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. आरुषि मर्डर केस: CBI के पूर्व डायरेक्टर का खुलासा, 'नूपुर और राजेश तलवार के खिलाफ सबूत नहीं थे'

आरुषि मर्डर केस: CBI के पूर्व डायरेक्टर का बड़ा खुलासा, 'नूपुर और राजेश तलवार के खिलाफ सबूत नहीं थे'

इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद आरुषि मर्डर केस फिर से मिस्ट्री बन गया है। अब सवाल ये उठ रहे हैं कि जब राजेश और नूपुर तलवार के खिलाफ सबूत ही नहीं थे तो उन्हें किसने फंसाया।

Written by: Khabarindiatv.com [Updated:13 Oct 2017, 8:46 PM IST]
Arushi murder case- Khabar IndiaTV
Arushi murder case

नई दिल्ली: इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद आरुषि मर्डर केस फिर से मिस्ट्री बन गया है। अब सवाल ये उठ रहे हैं कि जब राजेश और नूपुर तलवार के खिलाफ सबूत ही नहीं थे तो उन्हें किसने फंसाया। क्या उनके खिलाफ कोई साजिश रची गई। सीबीआई के पूर्व डायरेक्टर एपी सिंह ने इंडिया टीवी से बातचीत में इस बात का खुलासा किया है कि सीबीआई के पास नूपुर और राजेश तलावर के खिलाफ सबूत नहीं थे। बिना सबूत के ही सीबीआई ने नूपुर और राजेश तलवार को दोषी मानते हुए चार्जशीट दाखिल कर दी। 

  
उन्होंने कहा, 'यह मामला मेरे ज्वाइन करने से पहले पूरा हो चुका था। मैंने बैठक की तो लगा कि इसमें एविडेंश हैं पर चार्जशीट लायक एविडेंश नहीं है। हमने कोर्ट को बताया लेकिन कोर्ट ने कहा कि जो एविडेंश दे रहे हैं उससे चार्ज चला सकते हैं। एपी सिंह ने कहा कि इस मामले के जांच अधिकारी जांच को आगे बढ़ाना चाहते थे। एपी सिंह ने कहा, 'आईओ और लीगल ऑफिसर ने कहा था सर्वेंट के ख़िलाफ़ कोई एविडेंश नहीं है इसमें आगे की जांच होनी चाहिए। इसपर कोर्ट ने कहा कि ये एविडेंश काफी हैं। कोर्ट ने फैक्ट्स देखे। दोनों पक्षों के गवाहों को एक्ज़ामिन किया। उसके बाद इनको कन्विक्ट किया।'

वहीं हाईकोर्ट में इस फैसले की सुनवाई पर एपी सिंह ने कहा, 'हाईकोर्ट मैटर ऑन रिकॉर्ड को देखती है, वो आगे जांच नहीं करती है, उन्होंने उसे देखकर ही तय किया कि यह तलवार के फेवर में है।'

Promoted Content
auto-expo