1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. वित्त मंत्री जेटली के इस बयान पर लोकसभा में भड़के कांग्रेस के सांसद, किया हंगामा

वित्त मंत्री जेटली के इस बयान पर लोकसभा में भड़के कांग्रेस के सांसद, किया हंगामा

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में कांग्रेस की तरफ से राफेल सौदे पर उठाए जा रहे सवाल पर कहा कि कांग्रेस को कोई हक नहीं है कि वह एक साफ सुथरे और राष्ट्रहित में हुए सौदे पर सवाल उठाए

Written by: Khabarindiatv.com [Updated:08 Feb 2018, 7:38 PM IST]
Arun jaitley- Khabar IndiaTV
Arun jaitleyPhoto:PTI

नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में कांग्रेस की तरफ से राफेल सौदे पर उठाए जा रहे सवाल पर कहा कि कांग्रेस को कोई हक नहीं है कि वह एक साफ सुथरे और राष्ट्रहित में हुए सौदे पर सवाल उठाए। वित्त मंत्री जेटली ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि राफेल डील पर हथियार की कीमत बताना देशहित में नहीं है। राहुल गांधी ने झूठा विवाद खड़ा किया है। राहुल गांधी पहले प्रणब मुखर्जी से क्लास लें...। जेटली के इस बयान पर लोकसभा में कांग्रेस के सदस्य हंगामा करने लगे।

जेटली ने कहा कि हथियारों की खरीद फरोख्त को लेकर राष्ट्र की सुरक्षा के चलते पूरा ब्यौरा नहीं दिया जाता है। उन्होंने राहुल गांधी पर झूठ फैलाने का आरोप लगाया और कहा कि यूपीए सरकार के दौरान हुए रक्षा सौदों पर सदन में जब-जब सवाल पूछे गए तो राष्ट्र की सुरक्षा का हवाला दिया गया। उन्होंने कहा कि जब प्रणब मुखर्जी रक्षा मंत्री थे तो उन्होंने अमेरिका से हुई डिफेंस डील का ब्यौरा देने से इनकार किया था। उन्होंने कहा था कि यह राष्ट्र की सुरक्षा से जुड़ा मामला है। इसी तरह एके एंटनी ने भी राष्ट्र की सुरक्षा से जुड़ा होने के चलते आर्म्स डील का ब्यौरा देने से इनकार किया था।

अरुण जेटली ने जब कहा कि राहुल गांधी जाएं और प्रणब मुखर्जी से क्लास लें उसके बाद अपने सवाल उठाएं। जेटली के इस बयान पर लोकसभा में कांग्रेस के सदस्य हंगामा करने लगे। इससे पहल वित्त मंत्री ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्था है। जीएसटी लागू करने के बाद से हमारी ग्रोथ रेट घटी थी लेकिन धीरे-धीरे उसमें सुधार आ रहा है। उन्होंने कहा कि संस्थागत बदलाव आनेवाले समय में फायदेमंद रहेगा। उन्होंने कहा कि निजी इनकम टैक्स का बेस रेट बढ़ा है। वित्त मंत्री ने कहा कि नोटबंदी, जीएसटी आदि आसान फैसले नहीं थे लेकिन इस सरकार ने एक साहसपूर्ण फैसला लिया जो देशहित में जरूरी था। कालेधन और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के जरूरी था कि हम कठोर फैसले लें। 

 

Promoted Content
auto-expo