1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. अयोध्या में विवादित ढांचा विध्वंस की 25वीं बरसी, VHP करेगी बड़ा आयोजन

अयोध्या में विवादित ढांचा विध्वंस की 25वीं बरसी, VHP करेगी बड़ा आयोजन

6 दिसम्बर 1992 को कारसेवकों ने 16वीं सदी में बने बाबरी ढांचे को ढहा दिया था। इसके बाद देश में जगह-जगह हिंसा फैल गई थी...

Reported by: Bhasha [Updated:04 Dec 2017, 4:00 PM IST]
babri masjid demolition- Khabar IndiaTV
babri masjid demolition

अयोध्या: विश्व हिन्दू परिषद (VHP) ने आज कहा कि विवादित ढांचा विध्वंस के 25 बरस पूरे होने पर अयोध्या और लखनऊ में कार्यक्रम आयोजित किए जायेंगे। हर साल छह दिसम्बर को विवादित ढांचा विध्वंस की सालगिरह को मनाने वाली विहिप ने आगामी छह दिसम्बर को इस घटना के 25 वर्ष पूरे होने पर अयोध्या और लखनऊ में अनेक कार्यक्रमों के आयोजन की तैयारी की है।

विहिप के अवध क्षेत्र के सह मीडिया प्रभारी अम्बुज ओझा ने बताया कि विहिप के दिवंगत पूर्व प्रमुख अशोक सिंघल, पूर्व गोरक्षपीठाधीश्वर महन्त अवैद्यनाथ, रामजन्मभूमि न्यास के पूर्व प्रमुख महन्त राम चंद्र दास परमहंस तथा हजारों कारसेवकों ने अपना पूरा जीवन मंदिर आंदोलन के लिए समर्पित कर दिया। अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होने से उनका सपना निश्चित रूप से साकार होगा।

गौरतलब है कि 6 दिसम्बर 1992 को कारसेवकों ने 16वीं सदी में बने बाबरी ढांचे को ढहा दिया था। इसके बाद देश में जगह-जगह हिंसा फैल गई थी।

ओझा ने बताया कि 6 दिसम्बर को लखनऊ में शौर्य संकल्प सभा का आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा अयोध्या के कारसेवक पुरम में दोपहर में आयोजित होने वाली बैठक में बड़ी संख्या में साधु-संतों के पहुंचने की सम्भावना है। इन कार्यक्रमों की तैयारी जोरों पर है।

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने गत 28 नवम्बर को कहा था कि हर राम भक्त की इच्छा है कि वह अपने भगवान को ‘ठाठ’ से देखे ‘टाट’ से नहीं। उनका इशारा अयोध्या के विवादित स्थल पर बने अस्थायी राम मंदिर की तरफ था।

उन्होंने कहा था, ‘‘भगवान राम वहां अब भी उसी रूप में हैं, जैसा कि विवादित ढांचे के ढहाये जाने से पहले थे। हर दिन उनकी परम्परागत तरीके से पूजा की जाती है, लेकिन यह अब भी टाट के नीचे ही की जा रही है। उन्हें ठाठ से रहना चाहिए, और विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण कराया जाना चाहिए।’’

Promoted Content
auto-expo