1. You Are At:
  2. होम
  3. गैलरी
  4. इनक्रेडिबल इंडिय
  5. एक ऐसा मस्जिद जहां रोजा खोलने के लिए पढ़ा जाता है गायत्री मंत्र

एक ऐसा मस्जिद जहां रोजा खोलने के लिए पढ़ा जाता है गायत्री मंत्र

Khabar IndiaTV Photo Desk [Published on: 06 Jul 2016, 3:14 PM IST]
  • पूरे देश में ईद गुरुवार को मनाई जाएगी, लेकिन क्या आप सोच भी सकते हैं कि किसी मस्जिद में रोजा खोलने के लिए कुरान शरीफ की तिलावत के साथ गायत्री मंत्र का जाप किया जाता हो।
    1/8

    पूरे देश में ईद गुरुवार को मनाई जाएगी, लेकिन क्या आप सोच भी सकते हैं कि किसी मस्जिद में रोजा खोलने के लिए कुरान शरीफ की तिलावत के साथ गायत्री मंत्र का जाप किया जाता हो।

  • जी हां, दिल्ली गेट के पास आजकल मक्की मस्जिद में सर्व धर्म रोजा इफ्तार का आयोजन हो रहा है जिसमें रोजा खोलते समय एक तरफ कुरान शरीफ की तिलावत होती है, दूसरी ओर गायत्री मंत्र का जाप सुनाई देता है। यहां मौलाना भी शिरकत करते हैं, महामंडलेश्वर भी, सिख भी मौजूद रहते हैं और ईसाई भी। हर धर्म के लोग अपने ईश्वर को याद कर रोजा इफ्तार करते हैं।
    2/8

    जी हां, दिल्ली गेट के पास आजकल मक्की मस्जिद में सर्व धर्म रोजा इफ्तार का आयोजन हो रहा है जिसमें रोजा खोलते समय एक तरफ कुरान शरीफ की तिलावत होती है, दूसरी ओर गायत्री मंत्र का जाप सुनाई देता है। यहां मौलाना भी शिरकत करते हैं, महामंडलेश्वर भी, सिख भी मौजूद रहते हैं और ईसाई भी। हर धर्म के लोग अपने ईश्वर को याद कर रोजा इफ्तार करते हैं।

  • दिलचस्प बात ये है कि यहां मुस्लिम भी गायत्री मंत्र का उच्चारण करने से गुरेज नहीं करते। खुद आयोजक मुहम्मद बिलाल शबगा ने गायत्री मंत्र पढ़ा। उन्होंने बताया कि सर्व धर्म रोजा इफ्तार का आयोजन ‘हमारा नारा-भाई चारा मिशन’के तहत पिछले 38 साल से हो रहा है, जिसमें अंजुमन अमन दोस्त इंसान दोस्त, राष्ट्रशक्ति फाउंडेशन आदि स्वयं सेवी संस्थाओं का सहयोग रहता है।
    3/8

    दिलचस्प बात ये है कि यहां मुस्लिम भी गायत्री मंत्र का उच्चारण करने से गुरेज नहीं करते। खुद आयोजक मुहम्मद बिलाल शबगा ने गायत्री मंत्र पढ़ा। उन्होंने बताया कि सर्व धर्म रोजा इफ्तार का आयोजन ‘हमारा नारा-भाई चारा मिशन’के तहत पिछले 38 साल से हो रहा है, जिसमें अंजुमन अमन दोस्त इंसान दोस्त, राष्ट्रशक्ति फाउंडेशन आदि स्वयं सेवी संस्थाओं का सहयोग रहता है।

  • मक्की मस्जिद में बीते रविवार को हुए रोजा इफ्तार में महामंडलेश्वर अरुण गिरी महाराज, महंत कैलाश नाथ हठयोगी, डा. उजैर अहमद काशमी, गुलिंदर सिंह दास, गिरीश व सभी धर्मों के पुरुष और महिलाओं ने शिरकत की।
    4/8

    मक्की मस्जिद में बीते रविवार को हुए रोजा इफ्तार में महामंडलेश्वर अरुण गिरी महाराज, महंत कैलाश नाथ हठयोगी, डा. उजैर अहमद काशमी, गुलिंदर सिंह दास, गिरीश व सभी धर्मों के पुरुष और महिलाओं ने शिरकत की।

  • रोजा खुलवाते समय एक तरफ खुद मुहम्मद बिलाल ने गायत्री मंत्र का उच्चारण किया, वहीं दूसरी ओर कुरान शरीफ की तिलावत भी हुई। बिलाल ने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री आरिफ बेग इमरजेंसी के दौरान जेल में थे। वहां उनके रोजों का इंतजाम आरएसएस के लोगों ने किया। तब से वह सर्व धर्म रोजा इफ्तार करवा रहे हैं।
    5/8

    रोजा खुलवाते समय एक तरफ खुद मुहम्मद बिलाल ने गायत्री मंत्र का उच्चारण किया, वहीं दूसरी ओर कुरान शरीफ की तिलावत भी हुई। बिलाल ने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री आरिफ बेग इमरजेंसी के दौरान जेल में थे। वहां उनके रोजों का इंतजाम आरएसएस के लोगों ने किया। तब से वह सर्व धर्म रोजा इफ्तार करवा रहे हैं।

  • रोज इफ्तार में कई संप्रदाय के लोगों का जमा होना कोई नई बात नहीं है। इस तरह के स्टंट करना राजनीति में आम बात है लेकिन मक्की मस्जिद में होने वाली इफ्तार इस मामले में अलग है कि इसमें मुस्लिम संप्रदाय के लोग भी गायत्री मंत्र का उच्चारण करते हैं।
    6/8

    रोज इफ्तार में कई संप्रदाय के लोगों का जमा होना कोई नई बात नहीं है। इस तरह के स्टंट करना राजनीति में आम बात है लेकिन मक्की मस्जिद में होने वाली इफ्तार इस मामले में अलग है कि इसमें मुस्लिम संप्रदाय के लोग भी गायत्री मंत्र का उच्चारण करते हैं।

  • इस इफ्तार का आयोजन 'हमारा नारा-भाई चारा मिशन' के तहत पिछले 38 साल से हो रहा है। इसमें कई स्वयं सेवी संस्थान भी सहयोग करते हैं।
    7/8

    इस इफ्तार का आयोजन 'हमारा नारा-भाई चारा मिशन' के तहत पिछले 38 साल से हो रहा है। इसमें कई स्वयं सेवी संस्थान भी सहयोग करते हैं।

  • गत रविवार को हुए रोजा इफ्तार पार्टी में बीते रविवार को महामंडलेश्वर अरुण गिरी महाराज महंत कैलाश नाथ हठयोगी डॉक्टर उजैर अहमद काशमी सहित सभी धर्मों के पुरुषों सहित महिलाओं ने भी हिस्सा लिया।
    8/8

    गत रविवार को हुए रोजा इफ्तार पार्टी में बीते रविवार को महामंडलेश्वर अरुण गिरी महाराज महंत कैलाश नाथ हठयोगी डॉक्टर उजैर अहमद काशमी सहित सभी धर्मों के पुरुषों सहित महिलाओं ने भी हिस्सा लिया।

Next Photo Gallery

जानें वो 6 बातें जो हुईं महाभारत-युद्ध के बाद

You May Like

Next Photo Gallery