Live TV
  1. Home
  2. विदेश
  3. अमेरिका
  4. कठुआ गैंगरेप मामला: संयुक्त राष्ट्र ने...

कठुआ गैंगरेप मामला: संयुक्त राष्ट्र ने कहा, इस भयावह घटना के दोषियों को सजा मिले

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या को 'भयावह' बताते हुए दोषियों को कानून के दायरे में लाए जाने की उम्मीद जाहिर की...

Edited by: Khabarindiatv.com 14 Apr 2018, 14:27:27 IST
Khabarindiatv.com

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या को 'भयावह' बताते हुए दोषियों को कानून के दायरे में लाए जाने की उम्मीद जाहिर की। गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने शुक्रवार को बताया कि उन्होंने घुमंतू बकरवाल समुदाय की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म की खबरें देखी हैं। उन्होंने कहा, ‘हम आशा करते हैं कि प्रशासन इस जघन्य अपराध के लिए जिम्मेदार दोषियों को कानून के दायरे में लाएगा।’

गौरतलब है कि कठुआ की 8 साल की बच्ची का 10 जनवरी को अपहरण कर लिया गया था। बच्ची को एक मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया। इस दौरान उसे भूखा रखा गया और नशीली दवाइयां दी गई और बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया। इसके बाद बच्ची की हत्या कर दी गई। बच्ची का शव 17 जनवरी को रसाना गांव के जंगल से मिला था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को मामले पर अपनी नाराजगी प्रकट करने हुए इसे देश के लिए ‘शर्मनाक’ करार दिया और अपराधियों को बख्शे न जाने की बात कही। उन्होंने कहा था, ‘मैं देश को यह आश्वासन देना चाहता हूं कि कोई अपराधी बख्शा नहीं जाएगा। न्याय होगा। हमारी बेटियों को इंसाफ मिलेगा।’

इस मामले में हेड कांस्टेबल, एक सब-इंस्पेक्टर, 2 विशेष पुलिस अधिकारी सहित 8 लोग गिरफ्तार किए गए हैं और उनमें से 7 के खिलाफ आरोप दायर किया गया है। कठुआ मामले के विरोध में हुई रैली में शामिल होने के बाद शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के 2 मंत्रियों चौधरी लाल सिंह और चंदर प्रकाश गंगा ने पद से इस्तीफा दे दिया।

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का विदेश सेक्‍शन
Web Title: Hope authorities bring Kathua rape perpetrators to justice, says United Nations