Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. LTCG के फैसले से निवेशकों के...

LTCG के फैसले से निवेशकों के एक दिन 5 लाख करोड़ रुपए हुए स्‍वाह, BSE का मार्केट कैप 150 लाख करोड़ से आया नीचे

BSE पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटल गुरुवार को 153 करोड़ रुपए था लेकिन शुक्रवार को इन सबी कंपनियों का मार्केट कैपिटल घटकर 148 करोड़ रुपए रह गया

Reported by: Manish Kumar 02 Feb 2018, 17:03:55 IST
Manish Kumar

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट में शेयर बाजार से कमाई पर जिस लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स (LTCG) की घोषणा की है उसकी वजह से शुक्रवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट आई जिससे निवेशकों को भारी घाटने का सामना करना पड़ा और बाजार से लगभग 5 लाख करोड़ रुपए की पूंजी साफ हो गई।

1 दिन में 5 लाख करोड़ साफ

बजट के दिन गुरुवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर लिस्टेड कंपनियों का कुल मार्केट कैपिटल 153 लाख करोड़ रुपए के करीब था लेकिन शुक्रवार को जबरदस्त बिकवाली की वजह से सेंसेक्स में लिस्टेड कंपनियों के मार्केट कैपिटल में भारी गिरावट आई और सभी कंपनियों का कुल मार्केट कैप घटकर 148 लाख करोड़ रुपए रह गया।

सेंसेक्स ने छुआ 35006 का निचला स्तर

शेयर बाजार में शुक्रवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 839.91 प्वाइंट की बारी गिरावट के साथ 35066.75 के स्तर पर बंद हुआ जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 256.30 प्वाइंट घटकर 10760.60 पर बंद हुआ। सेंसेक्स ने 35006.41 और निफ्टी ने 10736.60 का निचला स्तर छुआ।

​पीसी ज्वैलर के शेयर में सबसे ज्यादा गिरावट

कंपनियों की बात करें तो शुक्रवार को पूरे बाजार में सबसे ज्यादा गिरावट PC ज्वैलर्स के शेयर में देखने को मिली, कंपनी का शेयर 24.40 प्रतिशत की गिरावट के साथ 365.60 पर बंद हुआ। इनके अलावा जीएमआर इंफ्रा का शेयर 15.38 प्रतिशत घटकर 19.25 रुपए, बॉम्बे डाइंग का शेयर 13.41 प्रतिशत की गिरावट के साथ 191.80 और जस्ट डायल का शेयर 12.29 प्रतिशत की भारी गिरावट के साथ 449.20 पर बंद हुआ।

​LTCG से बाजार में गिरावट

गुरुवार को बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शेयर बाजार में लंबी अवधि के निवेशकों पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स (LTCG) का प्रस्ताव दिया है जिस वजह से बाजार में यह बिकवाली देखने को मिली है। शेयर बाजार में एक साल से ऊपर किए गए निवेश पर 1 लाख रुपए सालाना से ऊपर की कमाई पर 10 प्रतिशत टैक्स का प्रस्ताव है।