Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. दूरसंचार क्षेत्र की तेज प्रतिस्पर्धा से...

दूरसंचार क्षेत्र की तेज प्रतिस्पर्धा से अनिल अंबानी की आरकॉम पर कोई असर नहीं, अब B2C की जगह बन गई है B2B कंपनी

रिलायंस कम्युनिकेशंस (RCOM) ने बुधवार को कहा कि कंपनी अब दूरसंचार क्षेत्र की तीव्र प्रतिस्पर्धा और टैरिफ के दवाब से अप्रभावित है, क्योंकि इस साल जनवरी में ही बिजनेस-टू-कंज्यूमर (B2C) खंड से निकल चुकी है।

Edited by: Manish Mishra 13 Jun 2018, 18:43:03 IST
Manish Mishra

मुंबई। रिलायंस कम्युनिकेशंस (RCOM) ने बुधवार को कहा कि कंपनी अब दूरसंचार क्षेत्र की तीव्र प्रतिस्पर्धा और टैरिफ के दवाब से अप्रभावित है, क्योंकि इस साल जनवरी में ही बिजनेस-टू-कंज्यूमर (B2C) खंड से निकल चुकी है। शेयर बाजारों में नियामकीय फाइलिंग में आरकॉम ने कहा कि यह भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) की नवीनतम रिपोर्ट से भी जाहिर होता है, जिसमें कहा गया है कि वायरलेस खंड में गिरावट जारी है और साल-दर-साल आधार पर राजस्व में 21 फीसदी से अधिक की गिरावट दर्ज की गई है। सालाना आधार पर सकल राजस्व बाजार का आकार घटकर 26,000 करोड़ रुपए हो गया है।

कंपनी ने कहा कि पुरानी कंपनियों एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया के साथ नई कंपनी रिलायंस जियो के बीच टैरिफ की लड़ाई निरंतर जारी है, इससे आगे इस क्षेत्र की कमाई और प्रभावित होगी। हालांकि, जनवरी में वायरलेस B2C कारोबार से बाहर निकल जाने के कारण आरकॉम पर इस क्षेत्र में चल रही तीव्र प्रतिस्पर्धा का असर नहीं होगा।

कंपनी ने दूरसंचार कारोबार से बाहर निकलने के बाद खुद को एक बिजनेस-टू-बिजनेस (B2B) कंपनी में बदल लिया है और कंपनी का जोर उद्यमों को दूरसंचार सेवाएं प्रदान करने तथा देश में डेटा केंद्रों की संख्या बढ़ाने पर है। कंपनी के 35,000 से अधिक व्यवसाय ग्राहक हैं।