Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. अलीबाबा की सहयोगी कंपनी में 1008...

अलीबाबा की सहयोगी कंपनी में 1008 करोड़ रुपए का निवेश करेगा रतन टाटा का वेंचर फंड

भारत के मशहूर उद्योगपति रतन टाटा चीन की कंपनी में बड़ा निवेश करने जा रहे हैं। रतन टाटा का वेंचर फंड आरएनटी कैपिटल एडवाइजर्स चीन की दिग्‍गज कंपनी अलीबाबा की एक सहयोगी ऐंट फाइनैंशल सर्विसेज में लगभग 1008 करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट करेगा।

Written by: India TV Paisa 08 Jun 2018, 12:32:23 IST
India TV Paisa

नई दिल्‍ली। भारत के मशहूर उद्योगपति रतन टाटा चीन की कंपनी में बड़ा निवेश करने जा रहे हैं। रतन टाटा का वेंचर फंड आरएनटी कैपिटल एडवाइजर्स चीन की दिग्‍गज कंपनी अलीबाबा की एक सहयोगी ऐंट फाइनैंशल सर्विसेज में लगभग 1008 करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट करेगा। आरएनटी कैपिटल को यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की इन्वेस्टमेंट यूनिट की फंडिंग भी हासिल है।

अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक रतन टाटा के फंड द्वारा किया गया यह निवेश ऐंट फाइनैंशल के लिए लगभग 672-806 अरब रुपये के फंडिंग राउंड का हिस्सा होगा। इसके मुताबिक कंपनी की वैल्यू लगभग 10,080 अरब रुपए होने की संभावना है। इससे यह वैल्यूएशन के लिहाज से यह एप आधारित टैक्‍सी सेवा देने वाली कंपनी उबर को पीछे छोड़ देगी। उबर की वैल्यू करीब 4,704 अरब रुपए है। एक सूत्र के मुताबिक, 'टाटा एकमात्र भारतीय इनवेस्टर हैं। फंडिंग राउंड काफी ओवरसब्सक्राइब हुआ है।' 10,080 अरब रुपये के वैल्यूएशन पर आरएनटी को ऐंट फाइनैंशल में लगभग 0.1 प्रतिशत हिस्‍सेदारी मिलेगी।

फंडिंग राउंड के अन्य बिडर्स में सिंगापुर की सरकारी इन्वेस्टमेंट कंपनी टेमासेक होल्डिंग्स, अमेरिका के प्राइवेट इक्विटी फंड वॉरबर्ग पिंकस और कार्लाइल और कनाडा की पेंशन फर्म CPPIB शामिल हैं। ऐंट फाइनैंशल के लिए वैल्यूएशन में यह बढ़ोतरी एक बड़ी उपलब्धि है। यह अगले वर्ष आईपीओ ला सकता है। 2016 में पिछले फंडिंग राउंड के दौरान इसकी वैल्यू 4,032 अरब रुपये लगी थी।

ऐंट फाइनैंशल की डिजिटल पेमेंट सर्विस अलीपे प्रत्येक तीन महीने में लगभग 162 लाख करोड़ रुपये की मोबाइल पेमेंट दर्ज करती है और इसके पास करीब 87 करोड़ कस्टमर हैं। रिस्क कैपिटल इन्वेस्टर्स का मानना है कि इस इन्वेस्टमेंट से आरएनटी कैपिटल अडवाइजर्स को अधिक स्टेक नहीं मिलेगा, लेकिन इससे यह संकेत मिल रहा है कि ऐंट फाइनैंशल का टाटा की साख पर भरोसा है और वह भारतीय इन्वेस्टर्स को अपने साथ जोड़ना चाहता है।