Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. सरकार के 2.11 लाख करोड़ के...

सरकार के 2.11 लाख करोड़ के टॉनिक से सुधरी सरकारी बैंकों की सेहत, शेयरों में आया एक दिन में 30% से ज्यादा उछाल

सरकारी बैकों में 2.11 लाख करोड़ के पुन:पूंजीकरण के लिए जो कदम उठाया है उसने शेयर बाजार में इन बैंकों की सेहत को सुधार दिया है।

Manoj Kumar
Manoj Kumar 25 Oct 2017, 13:17:32 IST

मुंबई। मंगलवार को केंद्र सरकार ने सरकारी बैकों में पुन:पूंजीकरण के लिए जो कदम उठाया है उसने शेयर बाजार में इन बैंकों की सेहत में बड़ा सुधार ला दिया है।  सरकार ने अगले दो वित्‍त वर्षों के दौरान सरकारी बैंकों में 2.11 लाख करोड़ रुपए की नई पूंजी डालने की घोषणा की है। इसके बाद बुधवार सुबह सरकारी बैंकों के शेयरों में 30 फीसदी से ज्यादा का उछाल देखने को मिला है। शेयर बाजार में लिस्ट कोई भी सरकारी बैंक ऐसा नहीं है जिसके शेयर में 10 फीसदी या इससे कम का उछाल है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर सरकारी बैंकों के शेयरों में सुबह पौने 10 बजे जो तेजी थी वह इस तरह से है।

बैंक शेयर में तेजी (%)
पंजाब नेशनल बैंक 48.88
केनरा बैंक 38.76
यूनियन बैंक 34.32
बैंक ऑफ इंडिया 33.48
बैंक ऑफ बड़ोदा 28.54
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 26.92
ओरिएंटल बैंक 25.40
इलाहाबाद बैंक 22.38
इंडियन बैंक 19.63
आईडीबीआई बैंक 19.15
आंध्रा बैंक 18.72
सिंडिकेट बैंक 16.87

मंगलवार को केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने अर्थव्यवस्था को को मजबूत बनाने और रोजगार को बढ़ावा देने के लिए जिन योजनाओं की घोषणा की है उन योजनाओं से बाजार में जोशभरा है और शेयर बाजार नई ऊंचाई पर पहुंचा है। वित्तमंत्री ने घोषणा की है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 2.11 लाख करोड़ रुपये के पूंजी निवेश की जाएगी। ऐसा होने से आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन मिलेगा। खुद अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भी सरकार के इस कदम की सराहना की है।

इस बीच, भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि सरकार द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 2.11 लाख करोड़ रुपये के पूंजी निवेश की जो घोषणा की गई है उससे आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन मिलेगा। कुमार ने कहा कि इससे प्रभावी तरीके से जोखिम के प्रबंधन और ण पूंजी से संबंधित जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा। उद्योग मंडल एसोचैम के महासचिव डी एस रावत ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में पूंजी डालने की घोषणा तथा परियोजना खर्च से भारतीय अर्थव्यवस्था को बड़ी राहत मिलेगी जो अभी जीएसटी और नोटबंदी के प्रभाव से जूझा रही है।

Web Title: सरकार के 2.11 लाख करोड़ के टॉनिक से सुधरी सरकारी बैंकों की सेहत