Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. ऑटो
  4. जल्‍द सड़कों पर दौड़ेगी बजाज की...

जल्‍द सड़कों पर दौड़ेगी बजाज की ये छोटी कार, सरकार ने नियम बनाने को दी मंजूरी

भारत सरकार ने क्‍वाड्रीसाइकिल को कानूनी मान्‍यता देने के लिए कदम आगे बढ़ा दिए हैं और जल्द ही इस वाहन का उपयोग देश में ट्रांसपोर्ट मोड के रूप में किया जाएगा।

Written by: Abhishek Shrivastava 13 Feb 2018, 14:07:45 IST
Abhishek Shrivastava

नई दिल्‍ली। राजीव बजाज यह खबर सुनकर बहुत खुश होंगे। भारत सरकार ने क्‍वाड्रीसाइकिल को कानूनी मान्‍यता देने के लिए कदम आगे बढ़ा दिए हैं और जल्द ही इस वाहन का उपयोग देश में ट्रांसपोर्ट मोड के रूप में किया जाएगा। मोटर वाहन अधिनियम, 1988 में क्‍वाड्रीसाइकिल के लिए कोई कानून न होने से अभी तक यह चार पहिया वाला मॉडर्न ऑटो रिक्‍शा भारतीय सड़कों से दूर बना हुआ है।

लेकिन अब सरकार इसे कानूनी मान्‍यता देने और भारतीय सड़कों पर क्‍वाड्रीसाइकिल को चलाने की मंजूरी देने पर विचार कर रही है। इस खबर को पढ़ने के बाद बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज बहुत खुश होंगे, क्‍योंकि वह काफी लंबे समय से अपने क्‍यूट क्‍वाड्रीसाइकिल को भारत में लॉन्‍च करने की कोशिश कर रहे हैं। बजाज क्‍यूट भारत में निर्मित क्‍वाड्रीसाइकिल है जिसे वर्तमान में देश से बाहर निर्यात किया जा रहा है। क्‍योंकि बजाज को इसे भारत में बेचने के लिए अभी तक सरकार से मंजूरी नहीं मिली है। उल्‍लेखनीय है कि बजाज ने सबसे पहले 2012 में चार पहियों वाली इस माइक्रोकार को सबके सामने प्रदर्शित किया था।

सड़क परिवहन मंत्रालय ने भारत में क्‍वाड्रीसाइकिल के लिए नियम बनाने का फैसला किया है। वाहन के वजन, इंजन आकार और यात्री क्षमता के आधार पर इसके लिए एक निश्चित रफ्तार तय होगी और सवारियों और पैदलयात्रियों दोनों की सुरक्षा के लिए स्‍टैंडर्ड सुरक्षा नियम बनाए जाएंगे। ऐसी उम्‍मीद की जा रही है कि सरकार अगले दो हफ्ते में इन नए नियमों और विनियमों को अधिसूचित कर देगी।  

अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक्‍स टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इस बात की पुष्टि की है कि सरकार जल्‍द ही क्‍वाड्रीसाइकिल के लिए अंतिम नियमों को जारी करेगी, जिससे कोई भी कंपनी भारत में इनका निर्माण और बिक्री कर सकेगी। सूत्रों ने बताया कि बजाज ने पहले ही अपने आपूर्तिकर्ताओं से बजाज क्‍यूट के उपकरणों की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कह दिया है।

स्‍मार्ट सिटी और मेट्रो के आने से क्‍वाड्रीसाइकिल अंतिम छोर तक संपर्क बनाने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएगी। सरकार के इस फैसले से अन्‍य भारतीय ऑटो निर्माता महिंद्रा और टाटा भी क्‍वाड्रीसाइकिल के निर्माण के लिए वेंचर बना सकते हैं।  

बजाज क्‍यूट का शुरुआती नाम आरई60 था और इसे यूरोपियन दिशा-निर्देशों और मानकों के तहत बहुत से अंतरराष्‍ट्रीय बाजारों में बेचा जा रहा है। इसकी अधिकतम स्‍पीड 70 किलोमीटर प्रति घंटा है और कंपनी का दावा है कि इसका माइलेज 36 किलोमीटर प्रति लीटर है। बजाज ने क्‍यूट की कीमत के बारे में अभी तक खुलासा नहीं किया है। हालांकि उम्‍मीद की जा रही है कि बजाज इसकी कीमत 2 लाख रुपए (एक्‍स-शोरूम) रख सकती है।