Live TV
  1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. मनोहर पर्रिकर 3 महीने पैंक्रियाटिक कैंसर...

मनोहर पर्रिकर 3 महीने पैंक्रियाटिक कैंसर का इलाज कराने के बाद लौटे गोवा, जानिए क्‍या है इस बीमारी के लक्षण और कारण?

तीन महीनों तक एडवांस पैंक्रियाटिक कैंसर का इलाज कराने के बाद गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर गुरुवार को राज्य वापस लौट आए हैं। जानिए इस बीमारी के लक्षण और कारण...

Edited by: shivani singh 15 Jun 2018, 6:59:22 IST
shivani singh

हेल्थ डेस्क: गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बारे में बताया जा रहा है कि वह उच्च चरण (एडवांस्ड स्टेज) के पैंक्रियाटिक कैंसर से जूझ रहे हैं। वह बुधवार तड़के मुंबई से अमेरिका इलाज करवाने के लिए रवाना हुए। मुंबई के लीलावती अस्पताल और गोवा मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के सूत्रों ने पर्रिकर को कैंसर होने की पुष्टि की है। 15 फरवरी से इन्हीं दोनों अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था।

तीन महीनों तक एडवांस पैंक्रियाटिक कैंसर का इलाज कराने के बाद गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर गुरुवार को राज्य वापस लौट आए हैं। पर्रिकर गुरुवार शाम को गोवा पहुंचने से पहले अपने परिजनों, एक मेडिकल टीम और मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारियों के साथ अमेरिका से मुंबई के लिए रवाना हुए।

डाबोलिम अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर नीली कमीज पहने पर्रिकर पतले दिख रहे थे। हवाईअड्डे पर स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे और पुलिस महानिदेशक मुकतेश चंद्र, गोवा सरकार के अन्य अधिकारियों और राज्य भाजपा के अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। उसके बाद वह यहां से अपने निजी आवास पर गए।

भाजपा के सूत्रों ने बताया, पर्रिकर शुक्रवार को प्रस्तावित मंत्रिमंडल की बैठक रद्द कर सकते हैं।

भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, "मुख्यमंत्री यात्रा के बाद थक गए हैं। उनके निजी आवास में प्रस्तावित मंत्रिमंडल की बैठक का पुनर्निधारण किया जा सकता है।" चलिए आपको भी बताते है कि क्या है पैंक्रियाटिक कैंसर। साथ ही जानें इसके लक्षण और कारण।

पैंक्रियाटिक कैंसर
अग्नाशय कैंसर यानी कि पैनक्रीएटिक कैंसर बहुत ही गंभीर रोग है। अग्‍नाशय में कैंसर युक्‍त कोशिकाओं के जन्‍म के कारण पैनक्रीएटिक कैंसर की शुरूआत होती है। यह अधिकतर 60 वर्ष से ऊपर की उम्र वाले लोगों में पाया जाता है। उम्र बढ़ने के साथ ही हमारे डीएनए में कैंसर पैदा करने वाले बदलाव होते हैं। इसी कारण 60 वर्ष या इससे ज्‍यादा उम्र के लोगों में पैनक्रीएटिक कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। इस कैंसर के होने की औसतन उम्र 72 साल है।

महिलाओं के मुकाबले पैनक्रीएटिक कैंसर पुरुषों को ज्यादा होता है। जो पुरुषों धूम्रपान  करते है। उन्हें इस कैंसर होने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। रेड मीट और चर्बी युक्‍त आहार का सेवन करने वालों को भी पैनक्रीएटिक कैंसर होने की आशंका बनी रहती है। कई अध्‍ययनों से यह भी साफ हुआ है कि फलों और सब्जियों के सेवन से इसके होने की आशंका कम होती है।

अगली स्लाइड में जाने लक्षण और कारण के बारें में

Khabar IndiaTv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: Goa Cm Manohar Parrikar back home after medical treatment in us for 3 months know pancreatic cancer causes and symtomous