1. Home
  2. विदेश
  3. अमेरिका
  4. मोसुल शहर को ISIS से मुक्त कराने के लिए ट्रंप ने दी हैदर अल अब्दी को बधाई

मोसुल शहर को ISIS से मुक्त कराने के लिए ट्रंप ने दी हैदर अल अब्दी को बधाई

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इराक के मोसुल शहर को आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट से मुक्त कराने की प्रशंसा की और जीत के लिए प्रधानमंत्री हैदर अल अब्दी को बधाई दी।

Edited by: India TV News Desk [Published on:11 Jul 2017, 10:17 AM IST]
मोसुल शहर को ISIS से मुक्त कराने के लिए ट्रंप ने दी हैदर अल अब्दी को बधाई

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इराक के मोसुल शहर को आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट से मुक्त कराने की प्रशंसा की और जीत के लिए प्रधानमंत्री हैदर अल अब्दी को बधाई दी। ट्रंप ने कल एक बयान में कहा, अमेरिका और वैश्विक गठबंधन के सहयोग से इराकी सुरक्षा बलों ने मोसुल शहर को आज आईएस के शासन से मुक्त करा लिया है। उन्होंने कहा, हम प्रधानमंत्री हैदर अल-अब्दी, इराकी सुरक्षा बलों और सभी इराकी नागरिकों को आतंकवादियों पर जीत के लिए बधाई देते हैं। ये आतंकवादी सभी सभ्य लोगों के दुश्मन है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, हम अपने देश के जनजीवन को बहाल करने के लिए अपनी जान गंवाने वाले बहादुर जवानों और पेशमर्गा को खोने को लेकर इराकी लोगों के दुख में शामिल हैं और हम उनके बलिदान का सम्मान करते हैं। (मोसुल की आजादी के बाद नजरें 39 भारतीयों की रिहाई पर)

उन्होंने कहा कि अमेरिका और वैश्विक गठबंधन इराकी सुरक्षाबलों और उन सभी लोगों के साथ खड़ा होकर गौरवान्वित है जिनके कारण मोसुल आजाद हुआ। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका के नेतृत्व वाले वैश्विक गठबंधन ने पिछले छह महीने से ज्यादा समय में आईएस के खिलाफ जबर्दस्त बढ़त हासिल की है। उन्होंने कहा, मोसुल में जीत इस बात का संकेत है कि अब आईएस के इराक और सीरिया में गिने चुने दिन बचे है। आईएस के पूरी तरह से खात्मे की हमारी लड़ाई जारी रहेगी।

विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने मोसुल की आजादी पर इराक के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि यह आईएस के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में मील का पत्थर है और इराकी सुरक्षा बलों के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के प्रयासों की सफलता को रेखांकित करता है। उन्होंने कहा, आईएस के मोसुल पर क्रूर तरीके से कब्जा जमाने के दौरान इस आतंकवादी संगठन ने हजारों नागरिकों की नृशंसता से हत्या कर दी, बम बनाने तथा लड़ने के लिए मस्जिदों, स्कूलों और अस्पतालों का इस्तेमाल किया तथा ऐतिहासिक अल नूरी मस्जिद और अल हदबा मीनार का विध्वंस किया और हाल ही में हार का सामना किया। 

Related Tags:

You May Like