1. Home
  2. विदेश
  3. एशिया
  4. पाकिस्तान: हाफिज सईद की नजरबंदी के खिलाफ जमात-उद-दावा का प्रदर्शन

पाकिस्तान: हाफिज सईद की नजरबंदी के खिलाफ जमात-उद-दावा का प्रदर्शन

जमात-उद-दावा (JuD) के सदस्यों ने समूह के नेता हाफिज सईद को घर में नजरबंद किए जाने के बाद मंगलवार को पूरे पाकिस्तान में विरोध प्रदर्शन किया। हाफिज सईद को मुंबई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड माना जाता है।

IANS [Published on:01 Feb 2017, 6:13 PM IST]
पाकिस्तान: हाफिज सईद की नजरबंदी के खिलाफ जमात-उद-दावा का प्रदर्शन

इस्लामाबाद: जमात-उद-दावा (JuD) के सदस्यों ने समूह के नेता हाफिज सईद को घर में नजरबंद किए जाने के बाद मंगलवार को पूरे पाकिस्तान में विरोध प्रदर्शन किया। हाफिज सईद को मुंबई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड माना जाता है। खबरों के मुताबिक, पाकिस्तान सरकार द्वारा सोमवार रात सईद के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के बाद JuD ने प्रमुख शहरों इस्लामाबाद, लाहौर, कराची, पेशावर, गुजरांवाला, सियालकोट, क्वेटा और हैदराबाद में विरोध-प्रदर्शन किया।

देश-विदेश की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

प्रदर्शनकारियों ने संगठन के पक्ष में नारे लगाए और भारत और अमेरिका के खिलाफ नारेबाजी की। लाहौर प्रेस क्लब के सामने भी प्रदर्शन किया गया। जेयूडी के नेताओं अबु-अल हाशिम रब्बानी, अब्दुल माजिद सल्फी और मसूद-उर-रहमान ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जमात एक देशभक्त संगठन है। लोगों को इसकी गतिविधियों के बारे में अच्छी तरह पता है और आरोप लगाया कि पाकिस्तान सरकार इसके खिलाफ कार्रवाई सिर्फ 'अपने भारतीय और अमेरिकी आकाओं' को खुश करने के लिए कर रही है।

Hafiz Saeed | AP Photo

नजरबंदी के बाद प्रेस-कॉन्फ्रेंस में हाफिज सईद। (AP फोटो)

नेताओं ने कहा, ‘यदि सरकार हम पर प्रतिबंध लगाती है तो हम एक मजबूत विरोध प्रदर्शन की शुरू करेंगे।’ इन्होंने दावा किया कि जमात उद दावा 'धर्मार्थ संगठन' है। हिरासत में लिए जाते समय सईद लाहौर के चौबुरजी इलाके की कुदसिया मस्जिद में था। जेयूडी प्रतिबंधित आतंकी संगठन संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) का मुखौटा है। एलईटी मुंबई में 26 नवंबर 2009 को आतंकी हमले के लिए जिम्मेदार है। इस हमले में 160 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें कई विदेशी नागरिक शामिल थे।

इसे अमेरिका द्वारा जून 2014 में एक विदेशी आतंकवादी संगठन घोषित किया गया। अमेरिका ने अप्रैल 2012 में सईद को मोस्ट वांटेड आतंकवादियों की सूची में रखा और इसकी गिरफ्तारी और सजा के लिए जानकारी देने पर एक करोड़ डॉलर इनाम देने की घोषणा की।

You May Like