1. Home
  2. विदेश
  3. एशिया
  4. नोटबंदी करके PM मोदी ने जुआ खेला है, मिसाल बनेगा: चीनी मीडिया

नोटबंदी करके PM मोदी ने जुआ खेला है, मिसाल बनेगा: चीनी मीडिया

चीन की आधिकारिक मीडिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के कदम को अत्यंत साहसिक बताते हुए शनिवार को कहा कि यह एक जुआ है जो हर हाल में एक मिसाल पेश करेगा, फिर भले ही यह कदम सफल रहे या असफल।...

Bhasha [Published on:26 Nov 2016, 2:35 PM IST]
नोटबंदी करके PM मोदी ने जुआ खेला है, मिसाल बनेगा: चीनी मीडिया

बीजिंग: चीन की आधिकारिक मीडिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के कदम को अत्यंत साहसिक बताते हुए शनिवार को कहा कि यह एक जुआ है जो हर हाल में एक मिसाल पेश करेगा, फिर भले ही यह कदम सफल रहे या असफल। इसमें यह भी कहा गया है कि चीन भ्रष्टाचार पर इसके प्रभाव से सबक लेगा।

कल्पना नहीं कर सकते की चीन में क्या होता
सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने ‘मोदी टेक्स ए गैम्बल विथ मनी रिफॉर्म’ शीर्षक से छपे लेख में कहा, ‘मोदी का कदम बहुत साहसिक है। हम इस बात की कल्पना नहीं कर सकते कि यदि चीन 50 और 100 युआन के नोट बंद देता है तो चीन में क्या होगा। चीन में सर्वाधिक मूल्य का नोट 100 युआन है।’ संपादकीय में कहा गया, ‘सूचना लीक होने से बचाने के लिए नोटबंदी संबंधी कदम के क्रियान्वयन को खतरे में डालते हुए योजना को गोपनीय रखना पड़ा। मोदी इस समय दुविधा की स्थिति में हैं क्योंकि इस सुधार का मकसद कालेधन को बेकार करना है लेकिन यह प्रक्रिया कोई नई नीति की शुरुआत से पहले जन समर्थन हासिल करने के प्रशासन के सिद्धांत के विपरीत है।’

PM नरेंद्र मोदी ने खेला है बड़ा जुआ
इसमें कहा गया है कि भारत में 90 प्रतिशत से अधिक लेन-देन नकद में किया जाता है, ऐसे में चलन में मौजूद 85 प्रतिशत नोटों के प्रतिबंधित होने से लोगों को दैनिक जीवन में बहुत मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। संपादकीय में कहा गया है, ‘जहां तक भ्रष्टाचार की मौजूदगी की जड़ की बात है तो समस्याएं हमेशा फिर से पैदा होंगी। नोटबंदी मोदी के लिए जुआ है। उन्होंने सरकार की क्रियान्वयन क्षमता और भारतीय समाज की सहनशक्ति के स्तर दोनों पर इस उम्मीद से दांव लगाया है कि इस सुधार के लाभ नकारात्मक सामाजिक प्रभाव और गिरे हुए मनोबल पर भारी पड़ सकते हैं।’

लोगों के सहयोग पर टिकी है नोटबंदी की सफलता
इसमें कहा गया है कि भारत की पश्चिमी शैली की लोकतांत्रिक प्रणाली में इस प्रकार के साहसिक कदमों के लिए कम ही स्थान है। संपादकीय में कहा गया है, ‘वह इसे अंजाम दे रहे हैं और यह कदम भले ही सफल रहे या असफल हो, यह एक मिसाल पेश करेगा।’ इसमें कहा गया है, ‘मोदी ने नेक इरादे से नोटबंदी की है लेकिन यह सफल होगा या नहीं, यह बात प्रणाली की दक्षता और पूरे समाज के सहयोग पर निर्भर करती है। चीन करीब 40 साल से सुधार कर रहा है और अर्थव्यवस्था को मुक्त बना रहा है। इसमें कई उतार-चढ़ाव आए लेकिन यह व्यापक रूप से स्थिर रहा। इसकी सफलता व्यापक स्तर पर लोगों के समर्थन पर निर्भर करती है।’

You May Like