1. Home
  2. विदेश
  3. एशिया
  4. चीन में बाढ़ के कारण कम से कम 18 लोगों की मौत

चीन में बाढ़ के कारण कम से कम 18 लोगों की मौत

बारिश और बाढ़ से पड़ोसी मुल्क चीन भी परेशान है। लगातार हो रही बारिश से चीन के पहाड़ दरकने लगे हैं। चीन के उत्तरपूर्वी जिलिन प्रांत में बाढ़ के कारण कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई जबकि इतनी ही संख्या...

Edited by: India TV News Desk [Updated:17 Jul 2017, 12:48 PM IST]
चीन में बाढ़ के कारण कम से कम 18 लोगों की मौत

बारिश और बाढ़ से पड़ोसी मुल्क चीन भी परेशान है। लगातार हो रही बारिश से चीन के पहाड़ दरकने लगे हैं। चीन के उत्तरपूर्वी जिलिन प्रांत में बाढ़ के कारण कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई जबकि इतनी ही संख्या में लोग लापता हैं। अधिकारियों ने आज यह जानकारी दी। प्रांत के मध्य और पूर्वी हिस्सों में बृहस्पतिवार तथा शुक्रवार को भारी बारिश के कारण बाढ़ आ गई। शहर के बाढ़ नियंत्रण तथा सूखा राहत कार्यालय के मुताबिक जिलिन शहर में भारी बाढ़ आई हुई है और 1,10,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, शहर में 32,360 सदस्यों के तलाश एवं बचाव दल को तैनात किया गया है। यह दल मलबा हटाने, पुलों की मरम्मत करने, घरों में फोन एवं बिजली सेवा बहाल करने के काम में जुटा है। (मोतियाबिंद के ऑपरेशन के दौरान महिला की आंख से निकला कुछ ऐसा, डॉक्टर्स रह गए हैरान)

भारी बारिश की वजह से जंगल के साथ दरका पहाड़ का हिस्सा हाईवे से होता हुआ सीधे नदी में जा गिरा। लैंडस्लाइड की वजह से ना सिर्फ हाईवे बंद हो गया। बल्कि पहाड़ और पेड़ों ने नदी के रास्ते को भी ब्लॉक कर दिया। पहाड़ से खिसके पत्थरों और मिट्टी की चपेट में निचले इलाके के कई घर भी आ गए। पहाड़ के गिरने से पहाड़ की गोद में बने घर भी ताश के पत्तों की तरह गिरते चले गए, और उनका मलबा भी नदी में समा गया। लैंडस्लाइड के बाद जल्द ही मौके पर पहुंची रेस्क्यू टीम ने राहत औऱ बचाव का काम शुरू कर दिया। रेस्क्यू टीम ने लकड़ी और रस्सीयों के सहारे टेमप्रररी पुल तैयार किया। और मलबे में फंसे लोगों को निकालने का काम शुरू किया गया।

रेस्क्यू टीम के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी पहाड़े की मिट्टी और मलबे से रुके नदी के रास्ते को फिर से सही करना। इसके लिए रेस्क्यू टीम ने मिट्टी और मलबे को काटकर उसे नदी के किनारों में तब्दील कर नदी को रास्ता दिया। बड़ी बड़ी चट्टानों और पेड़ों के गिरने से पहाड़ से गुज़रने वाले हाईवे को खासा नुकसान पहुंचा था। रास्ते के बंद होने कई गाड़ियां भी दोनों किनारों पर फंसी थी। रास्ते को फिर से शुरू करने के लिए रेस्कयू टीम ने बुल्डोजर की मदद से पत्थरों और मलबे को हटाया। सड़क से पेड़ों को हटाकर, सड़क को फिर से समतल किया गया। बल्लियों और पत्थरों के सहारे हाईवे के किनारों को भी दुरुस्त किया गया। बिजली विभाग के कर्मचारियों ने भी बाढ़ और भूस्खलन के बाद गिरे बिजली के खंभों की मरम्मत कर इलाके में बिजली सप्लाई को शुरू किया।

खबरों के मुताबिक चीन के हुनान और गुआंग्शी प्रांतों में बारिश के बाद आई बाढ़ से करीब 60 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि दो दर्जन से ज्यादा लोग लापता बताए गए हैं। चीन की समाचार एजेंसी के मुताबिक, हुनान प्रांत में 22 जून को शुरू हुई बारिश से 27 लोगों की मौत हो गई जबकि आठ अभी भी लापता हैं। बाढ़ की वजह से 12 करोड़ से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। 38 हजार से ज्यादा घर ढह गए और लगभग 8 लाख 80 हजार हेक्टेयर फसलें नष्ट हो गईं हैं।

Related Tags:

You May Like