1. Home
  2. विदेश
  3. अन्य देश
  4. चूहा जिंदा या मुर्दा पकड़ कर लाओं और पाओं हजारों रुपए, जानिए कैसे

चूहा जिंदा या मुर्दा पकड़ कर लाओं और पाओं हजारों रुपए, जानिए कैसे

अगर वह घर या खेतो में हो जाएं तो काफी नुकसान हो जाता है। जिन्हें भगाने के लिए हम न जाने क्या-क्या उपाय करते है। जिससे इनसे छुटकारा मिलें। आपको ये बात नहीं पाता कि एक देश की सरकार चूहे माररने पर...

India TV Lifestyle Desk [Updated:19 Oct 2016, 10:01 PM IST]
चूहा जिंदा या मुर्दा पकड़ कर लाओं और पाओं हजारों रुपए, जानिए कैसे

नई दिल्ली: आपने ये बात हमेशा सुनी और देखी होगी कि चूहों के आंतक से सब परेशान रहते है। अगर वह घर या खेतो में हो जाएं तो काफी नुकसान हो जाता है। जिन्हें भगाने के लिए हम न जाने क्या-क्या उपाय करते है। जिससे इनसे छुटकारा मिलें। आपको ये बात नहीं पाता कि एक देश की सरकार चूहे माररने पर आपको इनाम देगी। जी हां हो ग न हैरान, लेकिन ये सच है।

इंडोनेशियाई राजधानी जकार्ता में चूहें के आतंक से लोगों के साथ-साथ सरकार भी बुरी तरह से परेशान हो चुकी है। जिसके कारण एक अनोखी मुहीम छेड़ी है। इस मुहीम के अनुसार एक चूहा पकड़ने पर आपको 20 हजार इंडोनेशियाई रुपए यानी 100 रुपए से ज्यादा की रकम दी जाएगी। अधिकारियों को उम्मीद है कि चूहों के उन्मूलन से जुड़े इस अभियान से 1 करोड़ की आबादी वाले इस शहर को साफ सुथरा बनाने में मदद मिलेगी।

यहां पर हर जगह चूहा दिखना एक आम बात हो गई है। जिसके कारण अधिक बीमारियां भी फैल रही है। जिसके कारण जकार्ता के डिप्टी गवर्नर जेरॉट सैफुल हिदायत के हवाले से एक सरकारी न्यूज वेबसाइट ने कहा कि यहां काफी चूहे हैं। जिनमें से कुछ काफी बड़े हैं।

डिप्टी गवर्नर ने ही हाल में इस योजना का ऐलान किया था। उन्होंने बताया कि एक बड़े चूहे से सामना होने के बाद उन्हें यह अभियान चलाने का ख्याल आया। उनका कहना है कि कुछ चूहे इतने बड़े हैं कि बिल्लियां भी उन्हें शिकार बनाने से कतराती हैं।

इस मुहीम में ये नहीं बताया गया है कि चूहें कैसे पकडने है। बस आपको चूहा पकड़ कर लाना है जिंदा या मुर्दा। लेकिन इस बात की हिदायत दी गई है कि चूहों को मारने के लिए बंदूक का इस्तेमाल न करें। ऐसा करने के लिए इसलिए कहा गया अगर आपका निशाना चूका तो वह गोली और किसी को लग सकती है।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लोगों को ये चूहे पकड़कर स्थानीय अधिकारियों को सौंपने होंगे। वे लोगों को पैसे चुकाने के बाद इन चूहों को जकार्ता की साफ-सफाई से जुड़ी एजेंसी को दफनाने के लिए सौंप देंगे जिससे कि बीमारियां न फैलें।

Related Tags: