1. Home
  2. खेल
  3. अन्य खेल
  4. बैडमिंटन: हॉन्गकॉन्ग ओपन सुपर सीरीज के फाइनल में पीवी सिंधू हारीं

IPL T20

बैडमिंटन: हॉन्गकॉन्ग ओपन सुपर सीरीज के फाइनल में पीवी सिंधू हारीं

ओलंपिक में सिल्वर मेडल विजेता पीवी सिंधू की लगातार महिला एकल खिताब जीतने की तमन्ना अधूरी रह गई। उन्हें रविवार को हॉन्गकॉन्ग सुपर सीरीज फाइनल में चीनी ताइपे की ताई जु यिंग से सीधे गेम में हारकर उपविजेता स्थान से संतोष करना पड़ा।...

Bhasha [Published on:27 Nov 2016, 1:30 PM]
बैडमिंटन: हॉन्गकॉन्ग ओपन सुपर सीरीज के फाइनल में पीवी सिंधू हारीं - India TV

हॉन्गकॉन्ग: ओलंपिक में सिल्वर मेडल विजेता पीवी सिंधू की लगातार महिला एकल खिताब जीतने की तमन्ना अधूरी रह गई। उन्हें रविवार को हॉन्गकॉन्ग सुपर सीरीज फाइनल में चीनी ताइपे की ताई जु यिंग से सीधे गेम में हारकर उपविजेता स्थान से संतोष करना पड़ा। सिंधू को 41 मिनट तक चले मुकाबले में 15-21 17-21 से पराजय मिली।

खेल से जुड़ी ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

जु यिंग के लिए यह मैच बदला चुकता करने जैसा था जो हाल में सिंधू से रियो ओलंपिक खेलों में हारी थी। अब चीनी ताइपे की खिलाड़ी का इस भारतीय के खिलाफ जीत का रिकॉर्ड 5-3 है। दुनिया की तीसरे नंबर की खिलाड़ी और चौथी वरीय जु यिंग पहले गेम से ही बढ़त बनाए थीं और वह बेहतर खेल दिखाते हुए 18-11 से आगे चल रही थीं। यिंग ने बढ़त को कायम रखते हुए शुरुआती गेम बिना किसी परेशानी के अपने नाम कर लिया।

​​स्पेशल खबर: करारे स्मैश लगाने वाली पी.वी. सिंधु के बारे में 10 दिलचस्प बातें

दूसरे गेम में सिंधु ने थोड़ा दबाव बनाने का प्रयास किया लेकिन एक बार फिर वह जु यिंग के स्ट्रोक प्ले की रेंज और रफ्तार के आगे जूझती दिखी। जु यिंग ने अपनी कलाई का बेहतर इस्तेमाल करते हुए अपने शॉट्स पर नियंत्रण रखा। हालांकि सिंधू ने इस गेम को आसानी से विपक्षी खिलाड़ी के नाम नहीं करने दिया और उन्होंने 10 - 10 की बराबरी हासिल की। सिंधू ने चुनौती पेश करते हुए जब 11-10 से बढ़त बनाई, तब जु यिंग एक स्मैश को बाहर गिरा बैठीं। लेकिन जू यिंग ने बराबरी हासिल करते ही ब्रेक के बाद बढ़त बना ली।

इन्हें भी पढ़ें:

दो और अंक तक इस भारतीय खिलाड़ी का हार नहीं मानने का जज्बा दिखा लेकिन विपक्षी खिलाड़ी ने इसके बाद उन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया और दूसरा गेम अपने नाम किया।

Related Tags:
Read Complete Article
Write a comment
Gold Contest 2017