1. Home
  2. खेल
  3. अन्य खेल
  4. मेरा सुपरसीरीज खिताब जीतने का सपना सच हुआ: सिंधु

मेरा सुपरसीरीज खिताब जीतने का सपना सच हुआ: सिंधु

फूझोउ (चीन): भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी ओलम्पिक रजत पदक विजेता पी. वी. सिंधु ने रविवार को चीन ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया है। सिंधु ने महिला एकल वर्ग

IANS [Published on:21 Nov 2016, 6:54 AM IST]
मेरा सुपरसीरीज खिताब जीतने का सपना सच हुआ: सिंधु

फूझोउ (चीन): भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी ओलम्पिक रजत पदक विजेता पी. वी. सिंधु ने रविवार को चीन ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया है। सिंधु ने महिला एकल वर्ग के फाइनल मुकाबले में उलटफेर करते हुए विश्व की नौंवीं वरीयता प्राप्त चीन की सुन यू को मात देकर यह खिताब हासिल किया।

खिताब जीतने के बाद सिंधु ने चीन से फोन पर आईएएनएस से कहा, "मैं इस जीत से काफी खुश हूं। यह मेरा पहला सुपर सीरीज खिताब है, जो मेरा बरसों से सपना था।"

सिंधु ने कहा, "इस खिताब को जीतना मेरा सपना था, जो आज (रविवार) पूरा हो गया। जहां तक फाइनल मैच की बात है तो मैंने काफी समय बाद सुन यू के खिलाफ मुकाबला खेला और इसे जीत कर मुझे अच्छा अनुभव हुआ। मैं बेहद खुश हूं।"

11वीं विश्व वरीतया प्राप्त सिंधु ने एक घंटा नौ मिनट तक चले इस संघर्षपूर्ण मुकाबले में सुन यू को 21-11, 17-21, 21-11 से मात देकर करियर का पहला सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब अपने नाम किया।

सिंधु ने पहले गेम से ही सुन यू पर दबदबा कायम कर लिया। सिंधु ने पहले गेम में सुन यू को एकबार भी आगे नहीं निकलने दिया। एक समय 17-8 से बढ़ ले चुकीं सिंधु ने अपनी बढ़त बरकरार रखते हुए पहला गेम 21-11 से अपने नाम कर लिया।

दूसरे गेम में जरूर सुन दमदार वापसी करने में सफल रहीं। उन्होंने दूसरे गेम में सिंधु को कड़ी टक्कर दी। सिंधु ने इस सेट में एक समय सुन पर 14-10 से बढ़त हासिल कर ली थी, लेकिन चीनी खिलाड़ी ने यहां से छह अंक हासिल करते हुए 16-14 की बढ़त ले ली और अंतत: 21-17 से यह गेम जीतते हुए स्कोर 1-1 से बराबर कर लिया।

इसके बाद मैच तीसरे निर्णायक गेम में चला गया।

दोनों खिलाड़ियों के बीच तीसरे गेम की जंग बेहद रोमांचक रही। 6-6 के स्कोर तक दोनों खिलाड़ियों के बीच मुकाबला संघर्षपूर्ण रहा। सिंधु ने यहां से अपने खेल में तेजी दिखाई और लगातार चार अंक लेते हुए बढ़त ले ली।

सिंधु ने यहां से पीछे मुड़कर नहीं देखा और अपने तेज-तर्रार आक्रामक खेल की तीव्रता बढ़ाते हुए सुन यू को 21-11 से करारी मात दी।

सुन यू के खिलाफ करियर के इस छठे मुकाबले में जीत हासिल करते हुए सिंधु ने चीनी प्रतिद्वंद्वी के साथ अपनी जीत-हार का आंकड़ा 3-3 से बराबर कर लिया।

You May Like