1. Home
  2. खेल
  3. अन्य खेल
  4. चौटाला-कलमाड़ी को IOA आजीवन प्रेसिडेंट बनाने का फैसला रद्द

up election 2017

चौटाला-कलमाड़ी को IOA आजीवन प्रेसिडेंट बनाने का फैसला रद्द

India TV Sports Desk [ Updated 10 Jan 2017, 10:26:26 ]
चौटाला-कलमाड़ी को IOA आजीवन प्रेसिडेंट बनाने का फैसला रद्द - India TV

नई दिल्ली: सुरेश कलमाड़ी और अभय चौटाला को इंडियन ओलिंपिक एसोसिएशन (आईओए) का लाइफ टाइम प्रेसिडेंट बनाने का फ़ैसला रद्द कर दिया गया है। मामले पर विवाद बढ़ने के बाद आईओए ने यह फैसला किया है। आईओए के प्रेसिडेंट एन. रामचंद्रन ने कहा है कि चेन्नई में हुई एजीएम में सुरेश कलमाड़ी और अभय चौटाला को ओलिंपिक एसोसिएशन का लाइफटाइम प्रेसिडेंट बनाने का कोई प्रस्ताव नहीं था। 

सुरेश कलमाड़ी और अभय चौटाला का दोनों ही भ्रष्टाचार और अपराधों के आरोपी हैं।

कलमाड़ी और चौटाला को यह जिम्मेदारी सौंपे जाने पर सरकार ने ओलिंपिक एसोसिएशन को 28 दिसंबर को शो-कॉज नोटिस जारी किया था। तय वक्त में जवाब न दे पाने पर आईओए ने सरकार से 15 दिन का वक्त मांगा था। उसका कहना था कि एसोसिएशन के प्रेसिडेंट एन. रामचंद्रन अभी देश से बाहर हैं। इस पर स्पोर्ट्स मिनिस्टर विजय गोयल ने कहा था, "सरकार गलत चीजों का समर्थन नहीं कर सकती। "सरकार के नोटिस को गंभीरता से नहीं लिया गया, बल्कि 15 दिन का वक्त और मांगा गया। इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि जब तक इन नियुक्तियों को को वापस नहीं लिया जाता तब तक एसोसिएशन सस्पेंड रहेगा।"

कलमाड़ी पर कॉमनवेल्थ गेम में घोटाले के आरोप हैं। उन्होंने इस मामले में विवाद बढ़ने के बाद यह आईओए का लाइफटाइम प्रेसिडेंट बनने से मना कर दिया था।
आईओए को भेजे लेटर में उन्होंने लिखा था, "मुझे आजीवन अध्यक्ष बनाकर यह सम्मान देने के लिए मैं आईओए को धन्यवाद देता हूं लेकिन मुझे नहीं लगता कि इस वक्त मुझे यह सम्मान स्वीकार करना चाहिए। मुझे भरोसा है कि मेरा नाम भ्रष्टाचार के आरोपों से मुक्त हो जाएगा और तब तक के लिए मैं यह सम्मान स्वीकार नहीं करूंगा।"

हालांकि, उस वक्त चौटाला ने अड़े रहे थे और उन्होंने यह पद नहीं छोड़ा था।

विवाद बढ़ने के बाद यह मामला इंटरनेशनल ओलिंपिक कमेटी (आईओसी) के सामने पहुंचा था। इसके बाद आईओसी ने कहा था कि वह इस मामले को देखेगी।
चौटाला ने गोयल पर कसा था तंज

हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल के नेता अभय चौटाला ने स्पोर्ट्स मिनिस्टर विजय गोयल पर तंज कसा था और कहा था- "मैं विजय गोयल के बयान से हैरान हूं। उनका दावा है कि मेरे खिलाफ करप्शन के आरोप और क्रिमिनल केस चल रहे हैं। मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि मेरे खिलाफ पॉलिटिकल केस हैं। गोयल वैसे भी स्पोर्ट्स मिनिस्टर के तौर पर नाकाम साबित हुए हैं।"

Related Tags:
Read Complete Article
X