1. Home
  2. खेल
  3. क्रिकेट
  4. शास्त्री बोले टीम इंडिया में सभी मॉडल, हर हफ्ते बदलते हैं खिलाड़ियों के स्टाइल

शास्त्री बोले टीम इंडिया में सभी मॉडल, हर हफ्ते बदलते हैं खिलाड़ियों के स्टाइल

हमारी टीम में सभी मॉडल हैं। हर सिरीज़ से पहले खिलाड़ियों के हेयरस्टाइल बदल जाते हैं।

Written by: India TV Sports Desk [Updated:13 Sep 2017, 7:52 PM IST]
शास्त्री बोले टीम इंडिया में सभी मॉडल, हर हफ्ते बदलते हैं खिलाड़ियों के स्टाइल

मुंबई: टीम इंडिया के खिलाड़ियों की तरह ही टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री भी बिल्कुल बिंदास हैं और उन्हें भारतीय खिलाड़ियों का अपने स्टाइल और लुक्स में बदलाव करना बेहद पसंद है। शास्त्री ने मुंबई में इंडिया टीवी के स्पोर्ट्स एक्ज़क्यूटिव एडिटर समीप राजगुरु से खास मुलाकात कहा कि ' जब आप खुद की ताकत पर भरोसा करते हैं, तो बिंदास खेल सकते हैं। हमारी टीम में सभी मॉडल हैं, हर हफ्ते टीम के खिलाड़ियों का हेयरस्टाइल बदल जाता है। वो अपने लुक्स पर खासा ध्यान देते हैं, ये देखने में मज़ा आता है। मैदान के बाहर आप जो भी करना चाहते हैं कर सकते हैं। हर खिलाड़ी को अपनी जिंदगी जीनी चाहिए'।

गौरतलब है कि टीम इंडिया के खिलाड़ी अपने खेल के साथ-साथ अपने लुक्स को लेकर भी सुर्खियों में रहते हैं। खासकर शास्त्री ने तो हार्दिक पांड्या और शिखर धवन का नाम लेते हुए कहा कि ये खिलाड़ी तो हर सिरीज़ से पहले नए-नए हेयरस्टाइल के साथ अलग ही अंदाज में नजर आते हैं। धवन और पांड्या अपने लुक्स के साथ काफी एक्सपेरीमेंट करते हैं, जिसकी वज़ह से वो क्रिकेट फैंस के बीच भी बेहद लोकप्रिय हैं।   

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली से लेकर हार्दिक पांड्या, शिखर धवन और लोकेश राहुल जैसे युवा खिलाड़ियों का खुद का स्टाइल स्टेटमेंट है। ये सभी खिलाड़ी टैटू लवर भी हैं। सोशल मीडिया पर कप्तान कोहली की सिक्स पैक एब्स वाली तस्वीरें भी खूब वायरल हुई थी। जिन्हें उनकी फीमेल फैंस ने खूब पसंद किया था। 

हाल ही में पूर्व क्रिकेट कप्तान सुनील गावस्कर ने टीम इंडिया के खिलाड़ियों के स्टाइल पर तंज कसते हुए कहा था कि नए- नए हेयरस्टाइल और टैटू बनवाने पर ही टीम इंडिया में जगह मिलती है। वहीं इससे बिल्कुल अलग टीम इंडिया के हेड कोच को खिलाड़ियों के स्टाइल को लेकर कोई परेशानी नहीं है। शास्त्री के मुताबिक खिलाड़ी मैदान पर अच्छा प्रदर्शन करते रहें सिर्फ इसी बात से उनको फर्क पड़ता है। मैदान के बाहर वो अपनी जिंदगी अपने तरीके से जी सकते हैं।