1. Home
  2. खेल
  3. क्रिकेट
  4. कोलंबो: बांग्लादेश ने जीता अपना 100वां टेस्ट मैच, रचा इतिहास

IPL T20

कोलंबो: बांग्लादेश ने जीता अपना 100वां टेस्ट मैच, रचा इतिहास

बांग्लादेश को चौथी पारी में जीतने के लिए 191 रनों की जरूरत थी जिसे उसने मैच के पांचवें दिन तमीम इकबाल के 82 रनों की बदौलत 6 विकेट खोकर हासिल करते हुए श्रीलंका के खिलाफ अपनी पहली टेस्ट जीत दर्ज की।

IANS [Published on:19 Mar 2017, 5:50 PM]
कोलंबो: बांग्लादेश ने जीता अपना 100वां टेस्ट मैच, रचा इतिहास - India TV

कोलंबो: बांग्लादेश ने रविवार को अपने 100वें टेस्ट मैच में श्रीलंका को उसी के घर में 4 विकेट से मात देते हुए इतिहास रचा है। बांग्लादेश को चौथी पारी में जीतने के लिए 191 रनों की जरूरत थी जिसे उसने मैच के पांचवें दिन तमीम इकबाल के 82 रनों की बदौलत 6 विकेट खोकर हासिल करते हुए श्रीलंका के खिलाफ अपनी पहली टेस्ट जीत दर्ज की।

खेल से जुड़ी ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बांग्लादेश अपने 100वें टेस्ट मैच में जीत हासिल करने वाला चौथ देश बन गया है। यह कारनामा उसके अलावा आस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज ने किया है। मेजबान टीम ने चौथे दिन का अंत 8 विकेट के नुकसान पर 268 के स्कोर के साथ किया था। मैच के आखिरी दिन श्रीलंका ने अपने खाते में 51 रन और जोड़े। बांग्लादेश ने उसकी दूसरी पारी का अंत 319 रनों पर किया। छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश 2 लगातार झटकों से परेशानी में आ गई थी। 22 के कुल स्कोर पर रंगाना हेराथ और ने दिलरुवन परेरा ने क्रमश: सौम्य सरकार (22) और इमरुल कायस (0) के विकेट लेकर उसे सकते में डाल दिया था। लेकिन इकबाल ने सब्बीर रहमान (41) के साथ तीसरे विकेट के लिए 109 रनों की साझेदारी कर टीम को जीत के करीब पहुंचाया।

मैन ऑफ द मैच इकबाल 131 के कुल स्कोर पर आउट हुए। रहमान भी 143 के कुल स्कोर पर पवेलियन लौट गए। पहली पारी में शतक लगाने वाले शाकिब अल हसन ने 15 और मोसादेक हुसैन ने 13 रनों का योगदान दिया। कप्तान मुश्फीकुर रहीम (22 नॉटआउट) और मेंहदी हसन मिराज (2 नॉटआउट) ने बांग्लादेश को ऐतिहासिक जीत दिलाई। इससे पहले श्रीलंका ने दिनेश चंडीमल के बेहतरीन 138 रनों की मदद से अपनी पहली पारी में 338 रन बनाए थे। बांग्लादेश ने इसका शानदार जवाब देते हुए अपनी पहली पारी में 467 रनों का विशाल स्कोर खड़ा करते हुए 129 रनों की महत्वपूर्ण बढ़त ले ली थी।

Write a comment
samvaad