1. Home
  2. खेल
  3. क्रिकेट
  4. कुक को बचानी है कप्तानी तो रोकना पड़ेगा टीम इंडिया का विजय रथ

कुक को बचानी है कप्तानी तो रोकना पड़ेगा टीम इंडिया का विजय रथ

इंग्लैंड के बल्लेबाज़ और कप्तान के रुप में एलस्टेअ्रर कुक ने लगभग हर चुनौती का सामना किया है लेकिन आज उनके सामने है शायद उनके करिअर की सबसे बड़ी चुनौती है- कैसे टीम इंडिया के

India TV Sports Desk [Published on:01 Dec 2016, 10:23 AM IST]
कुक को बचानी है कप्तानी तो रोकना पड़ेगा टीम इंडिया का विजय रथ

इंग्लैंड के बल्लेबाज़ और कप्तान के रुप में एलस्टेअ्रर कुक ने लगभग हर चुनौती का सामना किया है लेकिन आज उनके सामने है शायद उनके करिअर की सबसे बड़ी चुनौती है- कैसे टीम इंडिया के हाथों सफ़ाये को रोका जाए? भारतीय दौरे पर बैटिंग के लिए अनुकूल पिचों पर पहले तीन टेस्ट मैचों में से दो में टॉस जीतने के बावजूद सिरीज़ में 2-0 से पिछड़ जाना समझ के परे लगता है।

देखा जाए तो ये कुक के नेतृत्व की अग्नि परीक्षा है। उनकी परेशानी ये है कि एक तरफ तो जहां उनके खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं वहीं नंबर एक टीम इंडिया घरेलू पिटों का भरपूर फ़ायदा उठा रही है। तीसरे टेस्ट में टॉस जीतने के बावजूद हारने के बाद कुक के लिए मीडिया ख़ासकर इंगिलिश मीडिया को जवाब देना मुश्किल हो गया था। कुक जानते हैं कि अगर मुंबई और चेन्नई में बाक़ी दो टेस्ट में उन्होंने पासा नहीं पलटा तो उनकी कप्तानी पर सवाल उठने लगेंगे। इंग्लैंड के बल्लेबाज़ जो रुट बहुत अच्छे फ़ार्म में चल रहे हैं और कप्तानी की बागडोर उन्हीं को सौंपी जा सकती है।

तीसरे टेस्ट में ओपनर 19 वर्षीय हसीब हमीद ने टूटी अंगुली के बावजूद अपने अनुभवी साथियों को दिखाया कि भारतीय पिचों पर कैसे बैटिंग की जाती है। मैच के बाद कुक ने कहा, 'दुनिया के इस हिस्से में आपको पहले बल्लेबाज़ी करते हुए बड़ा स्कोर खड़ा करना होता है लेकिन हम वो क्षमता नही दिखी। ईमानदारी से कहूं तो राजकोट और मोहाली में कोई ख़ास फ़र्क नहीं था और 400 रन बन सकते थे लेकिन हम नहीं बना सके।'

कुक ने माना कि उन्होंने सीमर स्टीवन फिन या जैक बॉल की जगह स्पिनर गैरथ बैटी को टीम में रखकर ग़लती की। हम सभी पिच को सही तरीके से परख नहीं सके। अगर हमने सही परखा होता तो टीम अलग होती यहां सीमर्स को मदद मिल रही थी। हमने चार सीमर खिलाए होते लेकिन मैं अपने फ़ैसले से खुश हूं क्योंकि मुझे लगा कि ये उस समय का सही फ़ैसला था।'

You May Like

Write a comment

Promoted Content