Ford Assembly election results 2017 Akamai CP Plus
  1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. पिछले 4 सालों में गुजरात बना सबसे तेज वृद्धि करने वाला राज्य, क्रिसिल की लिस्‍ट में एमपी और हरियाणा भी शामिल

पिछले 4 सालों में गुजरात बना सबसे तेज वृद्धि करने वाला राज्य, क्रिसिल की लिस्‍ट में एमपी और हरियाणा भी शामिल

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की ताजा रिपोर्ट गुजरात में विकास का दावा कर रही भारतीय जनता पार्टी के दावों को मजबूती प्रदान कर रही है।

Written by: Bhasha [Updated:08 Dec 2017, 12:52 PM IST]
Modi in Gujarat- IndiaTV Paisa
Modi in Gujarat

नयी दिल्ली। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की ताजा रिपोर्ट गुजरात में विकास का दावा कर रही भारतीय जनता पार्टी के दावों को मजबूती प्रदान कर रही है। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने ‘स्टेट्स ऑफ ग्रोथ’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में कहा गया हैैकि पिछले 4  साल में गुजरात देश का सबसे तेजी से बढ़ने वाला राज्‍य रहा है। गुजरात के साथ ही मध्यप्रदेश और हरियाणा भी पिछले चार वित्त वर्षों में सबसे तेजी से प्रगति करने वाले राज्य रहे हैं। जबकि पंजाब, उत्तर प्रदेश और केरल तीन सबसे कम प्रगति करने वाले राज्य रहे हैं।

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने ‘स्टेट्स ऑफ ग्रोथ’ शीर्षक से जारी की रिपोर्ट में कहा कि राज्य स्तरीय प्रदर्शन में बहुत भिन्नता है। राज्यों का प्रदर्शन वृद्धि, मुद्रास्फीति और राजकोषीय स्वास्थ्य जैसे मानकों पर आंका गया है। रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘गुजरात, मध्य प्रदेश और हरियाणा वित्त वर्ष 2013 से 17 के बीच सबसे तेजी से वृद्धि करने वाले राज्य रहे हैं जबकि पंजाब, उत्तर प्रदेश और केरल सबसे निचले पायदान पर है।’’ इसमें निर्माण और विनिर्माण में गुजरात शीर्ष पर रहा है जबकि विनिर्माण एवं व्यापार, परिवहन और संचार सेवाओं में छत्तीसगढ़ एवं हरियाणा शीर्ष में से एक रहे हैं। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि ग्रॉस वैल्‍यू एडेड (जीवीए) में निर्माण क्षेत्र की हिस्‍सेदारी 28.4 फीसदी से बढ़कर 34.4 फीसदी हो गई है। जो कि राज्‍य की बड़ी सफलता है। जीवीए का यह स्‍तर चीन के बराबर है। वहीं रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के 11 राज्‍यों में महंगाई की दर राष्‍ट्रीय औसत से भी कम रही है।  रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि छत्‍तीसगढ़, कर्नाटक, महाराष्‍ट्र, गुजरात और तेलंगाना राज्‍यों ने तेज गति से विकास करने के बावजूद भी अपने राजकोषीय घाटे को 3 फीसदी से नीचे रखने में कामयाबी हासिल की है। 

You May Like