1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. सैर-सपाटा
  4. आपको इंडिया के नार्थ-ईस्ट के लोगों के बारें में जानने में हैं दिलचस्पी, तो जाएं दिल्ली की इस प्रदर्शनी पर

आपको इंडिया के नार्थ-ईस्ट के लोगों के बारें में जानने में हैं दिलचस्पी, तो जाएं दिल्ली की इस प्रदर्शनी पर

दिल्ली के ललित कला अकादमी मे 'द सेकर्ड ग्रोव: नार्थ ईस्ट' प्रदर्शनी का 24 नवंबर को आयोजन किया गया है। जो कि 29 नवंबर तक चलेगी। इस प्रर्दशनी में भारत के उत्तर-पूर्व एरिया से संबंधित कलाकृतियां है.

India TV News Desk [Updated:26 Nov 2016, 11:17 AM IST]
आपको इंडिया के नार्थ-ईस्ट के लोगों के बारें में जानने में हैं दिलचस्पी, तो जाएं दिल्ली की इस प्रदर्शनी पर

नई दिल्ली: दिल्ली के ललित कला अकादमी मे 'द सेकर्ड ग्रोव: नार्थ ईस्ट' प्रदर्शनी का 24 नवंबर को आयोजन किया गया है। जो कि 29 नवंबर तक चलेगी। इस प्रर्दशनी में भारत के उत्तर-पूर्व एरिया से संबंधित कलाकृतियां है। अगर आपको पेटिंग्स या कलाकृतियां देखने का शौक है तो आप यहां जा सकते है।

इन कलाकृतियों के द्वारा आप इंडिया के नार्थ-ईस्ट में रहने वाले लोगों की दिनचर्या, वनस्पति, जीवनशैली के बारें में अच्छी तरह से जान सकते है।

इस प्रदर्शनी में प्रदर्शित 60 कलाकृतियां ललित कला अकादेमी कला संग्रह में से ली गई हैं और भारत के उत्तर-पूर्व क्षेत्र से संबंधित कलाकृतियां ही हैं जिन्हें पिछले पाच वर्षों के दौरान ललित कला अकादेमी द्वारा आयोजित विभिन्न कला शिविरों में सृजित किया गया है। दर्शकों के लिए यह कलाकृतियां स्थान-विशिष्ट और प्रामाणिक होने के साथ-साथ उनके हृदय को छूनेवाले प्रभावों से निर्मित हैं।

यह कलाकृतियां भारत के उत्तर-पूर्व क्षेत्र के सौन्दर्य और भव्यता को उद्घाटित करती हैं न केवल छायाचित्रिक बिम्बों के रूप में बल्कि मर्मस्पर्शी अनुभवों के रूप में भी, जिसे कलाकारों ने अपने चित्रवृतांत में प्रदर्शित किया है। प्रदर्शनी के लिए इस मंच पर कृतियां अपने और दर्शकों के बीच संवाद बन चुकी हैं। एक ओर कलाकृतियां क्षेत्र की संस्कृति, वहां के लोगों, जीवनशैली, वनस्पति और दैनिक जीवन से संबंधित हैं। वहीं प्रदर्शित चित्र इस क्षेत्र के दृश्यों और ध्वनि का प्रत्यक्ष प्रमाण हैं।

चित्रों में कई कलात्मक शैलियों की विविधता है क्योंकि उनके कलाकार क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्रों से लिए गए हैं और इसी वजह से उनके प्रत्येक कार्य में तकनीकी दक्षता के साथ-साथ संवेदनशीलता भी है। प्रदर्शनी में विशिष्ट कलात्मक तकनीकें, नव अवधारणाएँ, अद्वितीय रूप और रंगों की प्रचुरता है जो उत्सव का-सा अहसास करवाते हुए दर्शकों का परिचय क्षेत्र की जीवन शैली से करवाती हैं।

प्रदर्शनी को अपनी नूतन संकल्पना, कृतियों के प्रदर्शन और उत्तर-पूर्व क्षेत्र के दृश्यों और ध्वनि को समक्ष लाने के विषय के साथ दृश्यात्मक और मानसिक जुड़ाव के कारण पे्रस में काफी प्रशंसा प्राप्त हुई है।

ये प्रदर्शनी लित कला अकादेमी द्वारा ‘द सेकर्ड ग्रोव: नार्थ ईस्ट’ प्रदर्शनी का रवीन्द्र भवन, फीरोजशाह मार्ग, नई दिल्ली में प्रदर्शित की जा रही है। जो कि सुबह 11 बजे से शाम 7 बजे तक खुली रहेगी।

ऩस प्रदर्शनी का  उद्घाटन आस्ट्रेलिया की विदेश संस्कृति नीति की उपमंत्री माननीया डॉ. टेरेसा इंजेइन द्वारा किया गया। इस अवसर पर ललित कला अकादेमी के प्रशासक  श्री सी.एस. कृष्ण सेट्टी और सचिव डॉ. सुधाकर शर्मा भी उपस्थित थे ।

Related Tags: