1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. जीवन मंत्र
  4. 13 October 2017: मंगल कर रहा है राशिपरिवर्तन, अशुभ प्रभाव से बचने के लिए राशिनुसार करें ये उपाय

13 October 2017: मंगल कर रहा है राशिपरिवर्तन, अशुभ प्रभाव से बचने के लिए राशिनुसार करें ये उपाय

सूर्य, चन्द्रमा और गुरु इसके मित्र हैं और बुध और केतु इसके शत्रुओं की गिनती में आते हैं। चौथे और आठवें भाव का मंगल अशुभ होता है, वहीं अन्य भावों में मंगल की स्थिति शुभ होती है। अशुभ प्रभाव से बचने के लिए...

Written by: India TV Lifestyle Desk [Updated:12 Oct 2017, 9:44 AM IST]
13 October 2017: मंगल कर रहा है राशिपरिवर्तन, अशुभ प्रभाव से बचने के लिए राशिनुसार करें ये उपाय

धर्म डेस्क: 13 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 03 मिनट पर मंगल कन्या राशि में प्रवेश करेगा और 29 नवम्बर तक यहीं रहेगा। सूर्य और चन्द्रमा को छोड़कर मंगल बाकी ग्रहों में सबसे ज्यादा ताकतवर है। मंगल हमेशा एक योद्धा की भूमिका निभाता है।

वैसे तो यह हमेशा सही मार्ग पर चलने वाला और सच्चाई का साथ देने वाला ग्रह है, लेकिन बुरे के साथ यह बुरा है। शुभ मंगल व्यक्ति को शक्तिशाली और साहसी बनाता है, वहीं अगर जन्मपत्रिका में मंगल अच्छी स्थिति में न हो तो यह समाज के विरूद्ध कामों के लिये प्रेरित करता है।

शरीर में नाभि के आस-पास का क्षेत्र मंगल का क्षेत्र माना जाता है। मंगल की अशुभ स्थिति में एक आंख से कम दिखने लगता है, जोड़ों में परेशानी रहती है, शरीर में खून की कमी हो सकती है। शनि से मंगल का बैर है, पर शनि मंगल से शत्रुता नहीं करता। बाकी सूर्य, चन्द्रमा और गुरु इसके मित्र हैं और बुध और केतु इसके शत्रुओं की गिनती में आते हैं। जबकि मंगल के साथ राहु ज्यादा छेड़छाड़ नहीं करता, वह मौन रहता है। चौथे और आठवें भाव का मंगल अशुभ होता है, वहीं अन्य भावों में मंगल की स्थिति शुभ होती है।

मंगल की अशुभ स्थिति से बचने के लिये मीठा भोजन दान करना चाहिए।
बहते पानी में रेवड़ियां और बताशे बहाने चाहिए। साथ ही आपको गायत्री मंत्र जाप करना चाहिए। इसके अलावा मंगल के कन्या राशि में इस प्रवेश से विभिन्न राशियों पर क्या असर पड़ेगा और इसके अशुभ प्रभावों से बचने के लिये क्या उपाय करने चाहिए। जानिए

मेष राशि
मंगल का यह गोचर आपको साहसी बनायेगा। दूसरों के साथ अन्याय होते नहीं देख पायेंगे। लिखने की ताकत मिलेगी। आप जो लिखेंगे, डंके की चोट पर लिखेंगे। आपकी मुलाकात अच्छे लोगों और विद्वानों से होगी। इस दौरान आपके साथ-साथ आपके बड़े भाई और साथियों को भी तरक्की के नये अवसर प्राप्त होंगे। सन्तान सुख मिलेगा।  मंगल की अशुभ स्थिति में आर्थिक पक्ष कमजोर होगा। स्वयं से ज्यादा भाईयों को नुकसान उठाना पड़ेगा।

मंगल के अशुभ प्रभावों से बचने के लिये

  • भाईयों को कुछ न कुछ गिफ्ट दें। अगर भाई न लें, तो वे वस्तुएं पानी में बहा दें।
  • छोटी कन्याओं को दूध, चावल या चांदी का दान करें।

वृष राशि
मंगल का यह गोचर आपके लिये शुभ फल देने वाला होगा। इस दौरान आप शान्त स्वभाव के होंगे। घर में अगर कोई डॉक्टरी के पेशे से जुड़ा है, तो उनकी आय में वृद्धि निश्चित है। अगर आपकी पत्नी गर्भवती है और जल्द ही संतान को जन्म देने वाली है तो आपकी तरक्की ही तरक्की होगी। सन्तान से सुख मिलेगा। 13 अक्टूबर से 29 नवम्बर तक के बीच आपको बेवजह यात्रा करनी पड़ सकती है। मंगल की अशुभ स्थिति से आंखों में तकलीफ हो सकती है, स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। रात में अच्छी नींद नहीं आयेगी।

मंगल की शुभ स्थिति सुनिश्चित करने के लिये-

  • रात के समय सिरहाने के पास पानी रखकर सोएं।
  • बड़े-बूढ़ों का सम्मान करें, उन्हें अपने साथ रखें और दूध का दान करें।

ये भी पढ़ें:

अगली स्लाइड में पढ़े और राशियों के बारें में

Related Tags:

You May Like