1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. ये 4 आसन दिलाएंगे आपको आंखों की समस्या से छुटकारा

ये 4 आसन दिलाएंगे आपको आंखों की समस्या से छुटकारा

अक्सर योग और एक्सरसाइज़ के न करने से, कम्पयूटर पर बैठे रहने, घंटो मोबाइल का इस्तोमाल करने जैसी कुछ खराब आदतों का सीधा असर हमारी आंखों की रोशनी पर ही पड़ता है।

India TV Lifestyle Desk [Updated:19 Jun 2017, 4:25 PM IST]
ये 4 आसन दिलाएंगे आपको आंखों की समस्या से छुटकारा

नई दिल्ली: आजकल लोगों के खराब लाइफस्टाइल के चलते उन्हें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है, और इन्हीं खराब आदतों के कारण उन्हें कईे प्रकार की परेशानियां भी होती हैं। इन समस्याओं में से एक है आंखो की रोशनी। आज हम बच्चों से लेकर हर वर्ग के लोगों में आंखो की रोशनी की समस्या देखतें हैं। अक्सर योग और एक्सरसाइज़ के न करने से, कम्पयूटर पर बैठे रहने, घंटो मोबाइल का इस्तोमाल करने जैसी कुछ खराब आदतों का सीधा असर हमारी आंखों की रोशनी पर ही पड़ता है। एसे में अगर आप समय निकाल कर यह कुछ प्राणायाम करतें हैं तो आपकी आंखो की रोशनी भी ठीक हो सकती है। आइए जानें आंखों की रोशनी तेज़ करने वाले कुछ योगासन:

त्राटक आसन- यह आसन आंखों की रोशनी ठीक करने व नेत्र संबंधी सभी रोग ठीक करने में मददगार है। इस आसन में आपको ज़्यादा कुछ ना करते हुए एक स्थान पर बिना किसी हलचल के बैठना होगा और साथ ही लगातार एक चीज़ की ओर ध्यान लगाकर देखना होगा। (एक्सक्लूसिव: जानिए बाबा रामदेव से कमर दर्द से निजात पाने के 12 आसान उपाय)

शवासन- इस आसन को आंखो की रोशनी तेज़ करने के लिए सबसे अच्छा आसन कहा जाता है। शवासन सबसे आसान योग आसनों में से एक है जिसमें आपको एकदम सीधा लेटना होता है। यह शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक तौर पर भी बहुत महत्तव रखता है।  यह गर्दन और रीढ़ ही हड्डी संबंधी समस्याओं में भी काफी मददगार है।

अनुलोम-विलोम - इस योगासन से आपके पूरे शरीर में रक्त और ऑक्सीज़न का पूर्ण रुप से संचार होता है। इस आसन से आपके मन को शांति मिलती है और शरीर फुर्तीला भी बनता है। आंखो की रोशनी तेज़ करने में यह आसन भी मददगार है। (एक्सक्लूसिव: जानिए बाबा रामदेव से कमर दर्द से निजात पाने के 12 आसान उपायमानसून में यूं रखें अपने बालों और स्किन का ख्याल)

सर्वांगासन- इस आसन का दूसरा नाम शोल्डर-स्टैन्ड योगा भी है। इससे आंखो की रोशनी तो तेज़ होती ही है साथ में शरीर की सारी थकान भी दूर होती है। इससे दुर्बल शरीर से भी निजात मिलती है।