1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. महिला डॉक्टरों के इलाज करने पर मरीजों की मौत की संख्या हो सकती है कम: रिसर्च

महिला डॉक्टरों के इलाज करने पर मरीजों की मौत की संख्या हो सकती है कम: रिसर्च

भारतीय मूल के एक वैग्यानिक समेत हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक अस्पतालों में अगर महिला चिकित्सक बुजुर्गों का इलाज करती हैं, तो उनकी मौत या फिर से दाखिल कराने की आशंका कम हो जाती है।

India TV Lifestyle Desk [Published on:22 Dec 2016, 5:41 PM IST]
महिला डॉक्टरों के इलाज करने पर मरीजों की मौत की संख्या हो सकती है कम: रिसर्च

हेल्थ डेस्क: कहते है कि डॉक्टर भगवान के बाद दूसरे नंबर में होता है। आप चाहे जितने बीमार हो अगर अच्छे डॉक्टर का हाथ लग जाएं तो वह जल्द ही ठीक हो जाते है। लेकिन एक रिसर्च सामने आई है। जिसमें ये बात सामने आई कि अगर कोई लेडी डॉक्टर किसी बुजुर्ग का इलाज करती है, तो वह जल्द सही हो जाएगा।

ये भी पढ़े-

 

भारतीय मूल के एक वैग्यानिक समेत हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक अस्पतालों में अगर महिला चिकित्सक बुजुर्गों का इलाज करती हैं, तो उनकी मौत या फिर से दाखिल कराने की आशंका कम हो जाती है। अमेरिका में अस्पतालों में भर्ती महिला और पुरूष चिकित्सकों के कार्य करने के तरीके को लेकर अपनी तरह का यह पहला अध्ययन था।

अनुसंधानकर्ताओं का आकलन है कि अगर पुरूष चिकित्सकों का रिकार्ड भी महिला चिकित्सकों की तरह हो जाए तो हर साल मरने वालों की संख्या में 32,000 तक की कमी आ सकती है। देश में हर साल करीब इतने ही लोगों की वाहन दुर्घटनाओं में मौत हो जाती है।

इस अध्ययन के प्रमुख लेखक अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय के युसुके त्सुग्वा ने बताया, मृत्यु दर में अंतर के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। गंभीर रूप से बीमार मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों का लिंग खास तौर पर महत्व रखता प्रतीत हो रहा है।

त्सुग्वा ने कहा, ये अध्ययन इस बात की ओर इशारा करते हैं कि पुरूष और महिला चिकित्सकों के कार्य करने के तरीके में अंतर का महत्वपूर्ण नैदानिक निहितार्थ है।
इस अध्ययन का प्रकाशन जेएएमए इंटरनल मेडिसिन जर्नल में हुआ है।

Related Tags:

You May Like

Write a comment

Promoted Content