1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. हो जाएं सतर्क, इस कारण आप हो सकते है बौने

हो जाएं सतर्क, इस कारण आप हो सकते है बौने

ग्लोबल वार्मिग का असर हमें ठिंगना बना सकता है। समय के साथ हमारे कद की लंबाई पर यह असर डाल सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि अतीत में स्तनधारियों ने ग्लोबल वार्मिग के बढ़े प्रभाव की प्रतिक्रिया में अपने आकार को सिकोड़...

India TV Lifestyle Desk [Published on:19 Mar 2017, 12:55 PM]
हो जाएं सतर्क, इस कारण आप हो सकते है बौने - India TV

हेल्थ डेस्क: आज के समय में हर कोई चाहता है कि उसकी हाइट सही हो, क्योंकि लोग मानते है कि इससे आपकी पर्सनालिटी में फर्क पडता है। हमारे जीवन में कई ऐसे करियर होते है कि जिसमें लंबाई की खास जरुरत होती है। अगर आप पुलिस या फिर मॉडलिंग के क्षेत्र में अपना हाथ अजमाना चाहते है तो इसके लिए आपकी डाइट को होना बहुत ही जरुरी होता है।

ये भी पढ़े

अगर आपकी हाइट कम होती है तो लोग आपको जाने कितने नामों से चिढ़ाते है। जो कि आपको बहुत बुरा लगता है। सेकिन आप ये बात नहीं जानते होगे कि ग्लोबल वार्मिग भी आपको बौना बना सकती है। ये बात एक शोध में सामने आई।

ग्लोबल वार्मिग का असर हमें ठिंगना बना सकता है। समय के साथ हमारे कद की लंबाई पर यह असर डाल सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि अतीत में स्तनधारियों ने ग्लोबल वार्मिग के बढ़े प्रभाव की प्रतिक्रिया में अपने आकार को सिकोड़ लिया था। पहले भी स्तनधारियों के बौनेपन को बड़ी ग्लोबल वार्मिग की घटनाओं से जोड़ा गया है। नए शोध में पता चला है कि यह इस तरह घटना विकासात्मक प्रक्रिया हो सकती है।

इन निष्कर्षो से मौजूदा मानव पर जलवायु परिवर्तन के संभव प्रभाव को समझने में मदद मिल सकती है।

न्यू हैम्पशायर विश्वविद्यालय के एक शोधकर्ता छात्र अबीगैल डी अम्ब्रोसिया ने कहा, "हम जानते हैं कि पैलियोसीन-इओसीन में अधिकतम तापमान 9 से 14 डिग्री फारेनहाइट तक बढ़ता है, और कुछ स्तनधारी समय के साथ 30 फीसदी तक सिकुड़ते हैं। इसलिए हम देखना चाहते हैं कि क्या इस प्रक्रिया को अन्य वार्मिग घटनाओं के दौरान दोहराया गया है।"

डी अम्ब्रोसिया ने कहा, "हमें उम्मीद है कि इससे हमें आज के ग्लोबल वार्मिग के संभावित प्रभावों को समझने में मदद मिलेगी।" शोध का प्रकाशन पत्रिका 'साइंस एडवांसेज' में किया गया है।

इसमें शोधकर्ताओं ने अमेरिका के वायोमिंग के जीवाश्म वाले क्षेत्र बिघोर्न से दांत और जबड़े के अवशेष एकत्र किए हैं। शोधकर्ताओं ने शरीर के आकार को जानने के लिए मोलर दांत का अध्ययन किया।

Related Tags:
Read Complete Article
Write a comment
Gold Contest 2017