1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. रेडवाइन और अंगूर के सेवन से कम हो सकता है अस्थमा, जानिए कैसे

रेडवाइन और अंगूर के सेवन से कम हो सकता है अस्थमा, जानिए कैसे

India TV Lifestyle Desk [ Updated 30 Nov 2016, 13:35:15 ]
रेडवाइन और अंगूर के सेवन से कम हो सकता है अस्थमा, जानिए कैसे - India TV

हेल्थ डेस्क: रेडवाइन और अंगूर के फायदों के बारें में तो आप अच्छी तरह से जानते होगे। रेड वाइन का एक गिलास हर किसी को पसंद आता हैं। किसी किसी को तो रेड वाइन कुछ ज्यादा ही पसंद आती हैं। लेकिन इसका प्रयोग केवल एक स्वादिष्ट शराब के रुप में ही नही किया जाता बल्कि ये हमारे स्वास्थ के लिए भी बहुत अच्छी होती हैं।

ये भी पढ़े-

उसी तरह अंगूर भी हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते है। अंगूर में पर्याप्त मात्रा में कैलोरी, फाइबर और विटामिन सी व ई पाए जाते हैं। अंगूर के लाजवाब स्वाद से तो हम सभी परिचित हैं लेकिन कम ही लोगों को पता होता है कि ये सेहत का खजाना भी हैं।

एक शोध में यह बात सामने आई कि अंगूर और रेड वाइन का सेवन करने से आप अस्थमा को भी निंयंत्रित कर सकते है।  इनके इस्तेमाल क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) और कान के संक्रमण  को घटा सकता है। यह बात एक नए स्टडी में सामने आई है।

स्टडी के निष्कर्ष पत्रिका 'जर्नल साइंचटिफिट रिपोर्ट्स' में प्रकाशित हुए हैं। इसमें रिसवराट्राल की पहचान की गई है। यह एक एलिमेंट है, जो नेचुरली कुछ प्लांट फूड, जैसे अंगूर में पाया जाता है। यह एयरवेज की सूजन संबंधी बीमारियों को घटा सकता और रोगजनक बैकटीरिया द्वारा होने वाले सूजन पर काबू कर सकता है।

नतीजे बताते हैं कि यह यौगिक सेहत के लिए फायदेमंद है और नए, प्रभावी सूजन विरोधी उपचार कारकों को विकसित करने में इस्तेमाल किया जा सकता है। जॉर्जिया स्टेट विश्वविद्यालय के शोधकर्ता जियान-डोंग ली ने कहा कि,  हमने रेड वाइन और अंगूर में एक महत्वपूर्ण घटक देखा है, जिसे रिसवराट्राल कहते हैं यह सूजन को दबा देता है।

रिसर्चर्स ने पाया कि रिसवराट्राल एक प्रमुख बैकटीरिया रोगवाहक जो ओटिटिस मीडिया और सीओपीडी की वजह है को दबा देता है। रिसवराट्राल पॉलिफिनाल के एक समूह का यौगिक है, जो एक एंटीआक्सिीडेंट की तरह काम करता है।

यह शरीर को होने वाले नुकसान से बचाता है। इसे लंबे समय से सूजन सहित कई बीमारियों का चिकित्सकीय एजेंट माना जाता है। अध्ययन में रिसवराट्राल को एक प्रमुख श्वसन रोगजनक नानटाइपिएबल हीमोफिलस इन्फलुएंजा (एनटीएचआई) के कारण हुए सूजन को रोकने में प्रभावी पाया गया।

Related Tags:
Read Complete Article
X