1. Home
  2. भारत
  3. उत्तर प्रदेश
  4. UP में किसानों की कर्जमाफी महज धोखा : कांग्रेस

UP में किसानों की कर्जमाफी महज धोखा : कांग्रेस

केंद्र सरकार के तीन साल पूरे होने पर कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यहां शनिवार को केंद्र की मोदी सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश के किसानों के साथ धोखा किया है। ...

Bhasha [Published on:20 May 2017, 11:03 PM]
UP में किसानों की कर्जमाफी महज धोखा : कांग्रेस - India TV

लखनऊ: केंद्र सरकार के तीन साल पूरे होने पर कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यहां शनिवार को केंद्र की मोदी सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश के किसानों के साथ धोखा किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषणों में गरीब और किसानों की बात करते हैं, लेकिन फायदा उद्योगपतियों को पहुंचाते हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि केंद्र सरकार ने उद्योगपतियों का डेढ़ करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज माफ कर दिया, जबकि किसानों का एक पैसा नहीं। उत्तर प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी की जो घोषणा की गई है, वह महज धोखा है। बीते तीन में हर साल 12 हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं। योगी सरकार को इस पर श्वेतपत्र जारी करना चाहिए।

कांग्रेस मुख्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने ने कहा, "बीते तीन साल में खाद्यान्न, दलहन एवं तिलहन का कम उत्पादन हुआ। इससे बीते वर्ष एक लाख करोड़ रुपये से अधिक की हानि हुई। फसल बीमा योजना में किसानांे को दो से लेकर पांच प्रतिशत बीमित राशि देनी होती है, जो नहीं दी गई।" 

उन्होंने बताया कि मोदी सरकार की बेरुखी के कारण वर्ष 2014 में 12360 और 2015 में 12502 किसानों ने आत्महत्या कर ली।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, "योगी सरकार ने किसानों को धोखा दिया है। फसली ऋण की कर्ज माफी में भी खेल किया गया। राज्यपाल कुछ कह रहे हैं, मंत्रिपरिषद कुछ कह रही है। खैर, जो 36 हजार करोड़ रुपये की कर्जमाफी की घोषणा की गई, उसमें भी 30 हजार करोड़ रुपये फसली ऋण तथा छह हजार करोड़ रुपये एनपीए का होगा। योगी सरकार को इस पर श्वेतपत्र जारी करना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार उप्र की किसी सरकार ने राज्यपाल के अभिभाषण में संशोधन किया। 

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा ने 14 दिनों के अंदर गन्ना किसानों का बकाया भुगतान करने का वादा किया था, लेकिन आज भी गन्ना किसानों का 4600 करोड़ रुपया बकाया है। वे 14 दिन कब आएंगे, किसी को नहीं पता।

Write a comment