1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. ट्रिपल तलाक एक सामाजिक बुराई है, इबादत का हिस्सा नहीं: रविशंकर प्रसाद

ट्रिपल तलाक एक सामाजिक बुराई है, इबादत का हिस्सा नहीं: रविशंकर प्रसाद

इंडिया टीवी के कॉन्क्लेव 'संवाद' में केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने सोमवार को कहा कि ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर मोदी सरकार मुस्लिम महिलाओं के साथ खड़ी है।

Khabarindiatv.com [Updated:16 May 2017, 11:42 AM IST]
ट्रिपल तलाक एक सामाजिक बुराई है, इबादत का हिस्सा नहीं: रविशंकर प्रसाद

नई दिल्ली: इंडिया टीवी के कॉन्क्लेव 'संवाद' में केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने सोमवार को कहा कि ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर मोदी सरकार मुस्लिम महिलाओं के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि यह 'नारी न्याय, नारी समानता और नारी गरिमा' का मुद्दा है। उन्होंने कहा कि ट्रिपल तलाक एक संवैधानिक मुद्दा है, और इसका धर्म से कोई लेना-देना नहीं है।

रविशंकर प्रसाद ने 'संवाद' में कहा, 'ट्रिपल तलाक इस्लामी इबादत का हिस्सा नहीं है और हम इसका विरोध करेंगे। कई मुस्लिम बहुल देशों ने ट्रिपल तलाक को खत्म कर दिया है। यह नारी न्याय, नारी समानता और नारी गरिमा और हमारी सरकार हर हाल में मुस्लिम महिलाओं के साथ खड़ी रहेगी।' बीजेपी के सीनियर मंत्री ने इस बात से साफ इंकार किया कि बीजेपी इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही है। प्रसाद ने इस मौके पर अन्य राजनीतिक दलों पर भी निशाना साधा और कहा कि मायावती, ममता बनर्जी, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी जैसी महिला नेताओं ने ट्रिपल तलाक के खिलाफ कुछ नहीं कहा।

उन्होंने कहा, 'मैं इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करना चाहता, ट्रिपल तलाक एक सामाजिक बुराई है। हमने इस मुद्दे पर अदालत की शरण नहीं ली थी बल्कि वे मुस्लिम महिलाएं इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट गई थीं जो इसकी शिकार हैं। सुप्रीम कोर्ट द्वारा पूछे जाने के बाद हम ट्रिपल तलाक के खिलाफ खड़े हुए।' उन्होंने कहा कि हजारों महिलाएं ट्रिपल तलाक की शइकार हैं और अब उन्होंने अदालत की शरण ली है। उन्होंने कहा कि अब ऐसी महिलाएं खुलकर सामने आ रही हैं।

You May Like