1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. राष्ट्रपति चुनाव: PM मोदी से मिले रामनाथ कोविंद, कहा सभी पार्टियों से समर्थन मांगूंगा

राष्ट्रपति चुनाव: PM मोदी से मिले रामनाथ कोविंद, कहा सभी पार्टियों से समर्थन मांगूंगा

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने सोमवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की।

IANS [Updated:19 Jun 2017, 10:44 PM IST]
राष्ट्रपति चुनाव: PM मोदी से मिले रामनाथ कोविंद, कहा सभी पार्टियों से समर्थन मांगूंगा - India TV

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने सोमवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की। बैठक में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद थे। (पढ़ें: जानिए कौन हैं BJP की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद)

इससे पहले, रामनाथ कोविंद ने उम्मीद जताई कि 17 जुलाई को होने वाले मतदान में सभी राजनीतिक पार्टियां उनका समर्थन करेंगी। पटना से नई दिल्ली पहुंचने के बाद उन्होंने कहा, ‘मैं इलेक्टोरल कॉलेज के तमाम सदस्यों से अपील करता हूं, जो सभी राजनीतिक पार्टियों के सांसद व विधायक हैं। मैं उनसे अपील करूंगा, मैं उनसे मिलूंगा और उनका आशीर्वाद लूंगा।’ यह पूछे जाने पर कि क्या उनसे मुलाकात के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका समर्थन किया, बिहार के राज्यपाल ने कहा कि जनता दल (युनाइटेड) के नेता ने उनसे शिष्टाचार मुलाकात की थी। उन्होंने कहा, ‘चूंकि मैं बिहार का राज्यपाल हूं और जब उन्हें मेरी उम्मीदवारी का पता चला तो उन्होंने शिष्टाचार के नाते मुझसे मुलाकात की।’

यह पूछे जाने पर कि क्या विपक्ष उनके खिलाफ उम्मीदवार खड़ा करेगा, कोविंद ने कहा, ‘मुझे लगता है कि मुझे भारत के हर नागरिक का समर्थन व आशीर्वाद मिलेगा।’ उन्होंने 'एक साधारण नागरिक' को इतनी बड़ी जिम्मेदारी सौंपने तथा विश्वास जताने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा बीजेपी परिवार का शुक्रिया अदा किया। दिल्ली पहुंचने पर कोविंद का थावर चंद गहलोत, जे. पी. नड्डा, भूपेंद्र यादव तथा कैलाश विजयवर्गीय सहित केंद्रीय मंत्रियों तथा भारतीय जनता पार्टी के कई सांसदों ने स्वागत किया। कोविंद ने खुद को राजग की तरफ से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद पटना में कहा था कि 'यह एक कर्तव्य है। इसे एक कर्तव्य के रूप में लेते हैं।'

Write a comment