1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. सिद्धू को झटका, बैंस बंधुओं ने पंजाब चुनाव के लिए थामा AAP का दामन

सिद्धू को झटका, बैंस बंधुओं ने पंजाब चुनाव के लिए थामा AAP का दामन

चंडीगढ़: क्रिकेटर से नेता बने नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा हाल में गठित आवाज-ए-पंजाब मोर्चा आज दो फाड़ हो गया। उसके दो सदस्य सिमरजीत सिंह बैंस और बलविंदर सिंह बैंस ने आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव के

Bhasha [Updated:21 Nov 2016, 9:33 PM]
सिद्धू को झटका, बैंस बंधुओं ने पंजाब चुनाव के लिए थामा AAP का दामन - India TV

चंडीगढ़: क्रिकेटर से नेता बने नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा हाल में गठित आवाज-ए-पंजाब मोर्चा आज दो फाड़ हो गया। उसके दो सदस्य सिमरजीत सिंह बैंस और बलविंदर सिंह बैंस ने आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए आप से हाथ मिला लिया। संवाददाता सम्मेलन में इस बारे में घोषणा करते हुए आप के राज्य प्रभारी संजय सिंह ने यहां कहा कि आम आदमी पार्टी और लोक इंसाफ पार्टी 2017 का विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ेगी। बैंस बंधुओं ने लोक इंसाफ पार्टी का गठन किया है।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

उन्होंने कहा कि यह फैसला आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में किया गया था। यह फैसला बैंस बंधुओं के साथ कई दौर की बातचीत का नतीजा है। उन्होंने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी आगामी चुनाव में 100 से अधिक सीटें जीतेगी। उन्होंने कहा कि इस समझौते के तहत लोक इंसाफ पार्टी को 5 सीटें दी जाएंगी, जहां से वह अपने उम्मीदवार उतार सकती है। हालांकि, सीटों की घोषणा के संबंध में फैसले को अगले कुछ दिनों में सार्वजनिक किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि सिमरजीत सिंह बैंस और बलविंदर सिंह बैंस (लुधियाना से विधायक) ने ड्रग माफिया, रेत माफिया और नदी जल मुद्दे पर लोक इंसाफ पार्टी के जरिए आवाज उठाई थी। राज्यसभा के पूर्व सदस्य नवजोत सिंह सिद्धू ने आठ सितंबर को गैर राजनैतिक मोर्चा आवाज-ए-पंजाब का गठन किया था।

उनके अलावा बैंस बंधु और भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान परगट सिंह मोर्चा के सदस्य थे। बैंस बंधुओं ने दावा किया था कि मोर्चे की कांग्रेस और आप दोनों से गठबंधन के लिए बातचीत चल रही है।

सिमरजीत सिंह बैंस आत्म नगर से विधायक हैं जबकि उनके बड़े भाई बलविंदर सिंह बैंस लुधियाना दक्षिण सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं। सिद्धू के बारे में पूछे जाने पर सिमरजीत सिंह बैंस ने कहा कि वह उनका बड़े भाई की तरह सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा, मैं उनका (सिद्धू का) सम्मान करता हूं और हमेशा करूंगा।

उन्होंने कहा कि सिद्धू अपना रुख स्पष्ट करने के लिए शीघ्र मीडिया से मिलेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या परगट सिंह कांग्रेस के साथ जाएंगे तो सिमरजीत ने कहा, मैं नहीं सोचता कि वह कांग्रेस के साथ जाएंगे। हम उन्हें आप के साथ लाने की कोशिश करेंगे। सिमरजीत ने इन आरोपों को भी खारिज कर दिया कि बैंस बंधुओं ने गठबंधन के लिए आप के साथ काफी मोलभाव किया।

Write a comment